Khas-KhabarNational

#UnnaoCase: रेप पीड़िता के पिता की मौत मामले में सेंगर समेत सात दोषियों को 10 साल की सजा

New Delhi: उन्नाव रेप केस पीड़िता के पिता की हत्या के मामले में दिल्ली की तीस हजारी अदालत ने सजा सुनायी है.

कोर्ट ने पूर्व विधायक कुलदीप सेंगर समेत सात दोषियों को गैरइरादतन हत्या और आपराधिक साजिश रचने के मामले में 10 साल की सजा सुनाई है. सभी दोषियों पर कोर्ट ने 10-10 लाख का जुर्माना भी लगाया है.

इसे भी पढ़ेंःबाजार पर #CoronavirusPandemic का प्रकोप, 45 मिनट के ल‍िए थमा शेयर बाजार, भारी गिरावट

बता दें कि तीस हजारी कोर्ट ने चार मार्च को सेंगर समेत सात लोगों को दोषी करार दिया था. मामले की जांच कर रही सीबीआइ ने सेंगर के लिए अधिकतम सजा की अपील की थी.

adv

उल्लेखनीय है कि उन्नाव रेप केस में सीबीआइ की विशेष अदालत ने पहले ही भारतीय जनता पार्टी से निष्कासित पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को उम्रकैद की सजा सुनाई थी. ये दूसरी एफआइआर थी, जिसमें कोर्ट ने शुक्रवार को सजा का ऐलान किया है.

11 आरोपियों में से सात को कोर्ट ने ठहराया था दोषी

बता दें कि दिल्ली की तीस हजारी अदालत ने भाजपा के निष्कासित पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता के पिता की मौत मामले में गैर इरादतन हत्या का दोषी ठहराया था.

इस मामले में पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर समेत कुल 11 लोगों को आरोपी बनाया गया था. इनमें से चार को कोर्ट ने बरी कर दिया.

इसे भी पढ़ेंः#Rajasthan: गहलोत सरकार ने एक साल में दिया 25 करोड़ का ऐड लेकिन सचिन पायलट की नहीं दिखी एक भी तस्वीर

कुलदीप सिंह सेंगर, सब इंस्पेक्टर कामता प्रसाद, एसएचओ अशोक सिंह भदौरिया, विनीत मिश्रा उर्फ विनय मिश्रा, बीरेंद्र सिंह उर्फ बउवा सिंह, शशि प्रताप सिंह उर्फ सुमन सिंह, जयदीप सिंह उर्फ अतुल सिंह को कोर्ट ने पीड़िता के पिता की कस्टडी में हुई मौत का दोषी माना था.

कोर्ट ने जिन सात लोगों को दोषी करार दिया, उनमें दो पुलिस अधिकारी भी शामिल हैं. एक एसएचओ है, दूसरा सब इंस्पेक्टर है.

पुलिस कस्टडी में हुई थी पीड़िता के पिता की मौत

ये मामला 2018 का है. दरअसल, पीड़िता के पिता अपने एक साथी के साथ गांव लौट रहे थे, इसी दौरान शशि प्रताप सिंह नामक एक व्यक्ति ने उनसे लिफ्ट मांगी. लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया, जिसके बाद दोनों पक्षों में विवाद हो गया. इसके बाद सिंह ने अपने साथियों को बुलाया, जिनमें पूर्व विधायक सेंगर का भाई अतुल भी था.

इन लोगों ने पीड़िता के पिता को बुरी तरह पीटा. इसके बाद गंभीर रूप से घायल होने के बावजूद उन्हें अस्पताल ले जाने के बजाय पुलिस स्टेशन ले जाया गया जहां दो दिन बाद पुलिस हिरासत में उनकी मौत हो गई.

रेप पीड़िता के पिता की 9 अप्रैल 2018 को न्यायिक हिरासत में मौत हो गई थी. सीबीआइ ने इस मामले में पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर समेत अन्य कई लोगों पर पीड़िता के पिता की हत्या के आरोप की जांच कर रही थी.

इसे भी पढ़ेंः#Corona ने लगाया शिक्षा पर आपातकाल! उत्तराखंड, छत्तीसगढ़ और दिल्ली में 31 मार्च तक स्कूल और कॉलेज बंद

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: