न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कॉलेज को अपग्रेड कर बनाया विवि, सरकार दावा कर रही- राज्य को मिले नये विवि

469

Rahul Guru

Ranchi: बहुमतवाली सरकार राज्य के उच्च शिक्षा के स्तर को बेहतर बनाने का दावा कर रही है. पर असलियत यह है कि इस सरकार ने अपने पांच साल के कार्यकाल में पुराने संस्थानों को अपग्रेड कर नये विवि खोलने का दावा किया है.

Mayfair 2-1-2020

सरकार जिन विवि को खोलने का दावा कर रही है, उनमें से आधे अपग्रेड किये गये हैं. जिन विवि को खोला गया है, उनमें कई आज भी अपने भवन की तलाश ही कर रहे हैं. देश का तीसरा व राज्य का पहला रक्षा शक्ति विवि को तो दो साल में स्थायी कुलपति तक नसीब नहीं हुआ है.

इसे भी पढ़ें – #Zero_Tolerance वाली रघुवर सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि भी हो गयी दागदार

जमशेदपुर महिला कॉलेज को ही बना दिया महिला विवि

बहुमतवाली सरकार जिन नये विवि को खोलने का दावा कर रही है, उसमें महिला विवि भी शामिल है. लेकिन असलियत यह है कि जमशेदपुर महिला कॉलेज को अपग्रेड कर महिला विवि जमशेदपुर का दर्जा दे दिया गया है. 4 फरवरी 2019 को अस्तित्व में आये इस महिला विवि को झारखंड-बिहार का पहला महिला विवि कहा गया है. जमशेदपुर महिला कॉलेज कैंपस में संचालित हो रहा महिला विवि का 22 एकड़ जमीन में दो भवन बनाया जायेगा.

Vision House 17/01/2020

एसबीटीइ को खत्म कर बना दिया टेक्निकल यूनिवर्सिटी

डबल इंजन वाली सरकार राज्य के सभी टेक्निकल संस्थानों को एक प्लेटफॉर्म पर लाने के लिए झारखंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी खोलने का दावा कर रही है, जबकि हकीकत यह है कि सरकार ने स्टेट बोर्ड ऑफ टेक्निकल एजुकेशन को समाप्त कर टेक्निकल यूनिवर्सिटी खोल दिया.

12 नवंबर 2015 को यह विवि खुला जिसके पहले वीसी बीआइटी मेसरा के डॉ गोपाल पाठक हैं. दो साल से अधिक समय तक किराये के भवन में संचालित होने के बाद वर्तमान में यह विवि नामकुम स्थित झारखंड कंबाइंड एग्जामिनेशन भवन कैंपस में बनाये गये नये भवन में चल रहा है.

इसे भी पढ़ें – नौकरी घोटाला : सरयू राय ने रिकॉर्ड जारी कर कहा, रघुवर ने 26 हजार युवकों को रोजगार देने का झूठा दावा किया

1926 में खुले रांची कॉलेज को बंद कर बनाया डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी विवि

नये विवि खोलने का दावा करनेवाली बहुमत की सरकार ने साल 1926 से संचालित हो रहे रांची कॉलेज को अपग्रेड कर डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी विवि बना दिया. 11 अप्रैल 2017 को डबल इंजन की सरकार ने डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी विवि को अस्तित्व में लाया.

यह विवि एकल विश्वविद्यालय है, जहां स्नातक, स्नातकोत्तर, बीएड के अलावा कई तरह के पीजी डिप्लोमा व डिप्लोमा स्तर के कोर्स चल रहे हैं. पुराने रांची कॉलेज भवन में प्रशासनिक भवन चल रहा है. जबकि 55 करोड़ रुपये की लागत से कई भवन बनाये जा रहे हैं.

किराये के भवन में चल रहा कोयलांचल विवि

23 मार्च 2017 को अस्तित्व में आया बिनोद बिहारी महतो कोयलांचल विवि अपने स्थापना से दो साल पूरा करने के बाद भी किराये के भवन में चल रहा है. इस विवि के तहत 21 पीजी डिपार्टमेंट हैं, जो पीके राय मेमोरियल कॉलेज में चलता है. लगभग 67.4 करोड़ रुपये के वार्षिक खर्च वाले इस विवि का एडमिनिस्ट्रेटिव भवन गर्वमेंट पॉलिटेक्निक रोड स्थित एक सरकारी भवन में किराये पर संचालित हो रहा है. फिलहाल इस विवि के अंतर्गत 10 सरकारी, 18 एफिलिएटेड, 25 बीएड, 02 इंजीनियरिंग, 02 लॉ और 01 मेडिकल कॉलेज चल रहे हैं.

दो साल से भवन का इंतजार कर रहा रक्षा शक्ति विवि

साल 2017 में खुला देश का तीसरा व राज्य का पहला रक्षा शक्ति विवि दो साल बाद भी अपने भवन की तलाश कर रहा है. बीते दो साल से यह विवि श्री कृष्ण लोक प्रशासन भवन में बगल में चल रहा है. जबकि 2017 के नवंबर महीने में राज्यपाल द्रौपदी मूर्मू ने खूंटी के नॉलेजसिटी में रक्षा शक्ति विवि के नये भवन का शिलान्यास किया था. 75 एकड़ अधिग्रहित भूमि पर 206.54 लाख की लागत से भवन का निर्माण किया जाना है. अहम बात यह है कि स्थापना वर्ष से अब तक इस विवि को अपना वाइस चांसलर तक नहीं मिल पाया है.

इसे भी पढ़ें – पीएम को चिट्ठी लिख कर कहा था, न करें विधानसभा का उद्घाटन, अगजनी की हो सीबीआइ जांचः सरयू

Ranchi Police 11/1/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like