न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

डीवीसी के साथ संयुक्त मोर्चा की बैठक पांचवीं बार रही बेनतीजा

132

Bermo(Bokaro) : डीवीसी बोकारो थर्मल और चंद्रपुरा के सप्लाई मजदूरों का लंबित वेतन पुनरीक्षण पर आज भी कोई फैसला नहीं हो पाया. डीवीसी मुख्यालय कोलकाता में गुरुवार को आहुत पांचवी बैठक भी मागों को लेकर बेनतीजा समाप्त हो गयी. प्रबंधन द्वारा गठित समिति ने श्रमिक प्रतिनिधियों के समक्ष मूल वेतन 18,250 रुपया सहित कुल वेतन में लगभग 20 फीसदी बढोत्तरी का प्रस्ताव संयुक्त मोर्चा के प्रतिनिधियों के समक्ष प्रस्तुत किया. जिसे संयुक्त मोर्चा में शामिल डीवीसी ठेका मजदूर संघ, डीवीसी यूसीडब्लूयू, हिमकियू और बिराठेकायू के प्रतिनिधियों ने एक सिरे से खारिज कर दिया.

आगामी बैठक में प्रबंधन का पक्ष रखा जायेगा

संयुक्त मोर्चा की ओर से बिंदुवार पक्ष रखते हुए डीवीसी ठेका मजदूर संघ के महामंत्री भरत यादव ने मांग किया कि, डीवीसी के स्थाई कर्मचारियों के लिए स्थापित सूत्र के अनुसार सप्लाई मजदूरों का मूल वेतन, भत्ता, चिकित्सा सुविधा, पदोन्नति, ग्रेच्युटी आदि सहित अन्य सुविधाओं का निर्धारण होना चाहिए, अन्यथा प्रबंधन का प्रस्ताव  स्वीकार्य नहीं होगा. जिसके आलोक में प्रबंधन द्वारा गठित समिति के सदस्यों ने आश्वस्त किया कि संयुक्त मोर्चा की मांग से डीवीसी के अध्यक्ष और सचिव को अवगत कराते हुए आगामी बैठक में प्रबंधन का पक्ष रखा जायेगा.

अगली बैठक बेनतीजा रहा तो मोर्चा करेगा आंदोलन

उसके बाद संयुक्त मोर्चा के प्रतिनिधियों ने डीवीसी के सदस्य सचिव पीके मुखोपाध्याय और कार्यपालक निदेशक एके वर्मा (मासं) से मिलकर स्पष्ट कहा कि अगर आगामी बैठक बेनतीजा रहा तो संयुक्त मोर्चा आंदोलन के लिए बाध्य होगा. इसके आलोक में दोनों अधिकारियों ने आश्वस्त किया कि, यथा शीघ्र डीवीसी के नव नियुक्त चेयरमैन से विचार विमर्श कर सम्मान जनक समझौता किया जायेगा.

बैठक में ये लोग थे मौजूद

बैठक में मुख्य रूप से डीवीसी यूसीडब्लूयू के अध्यक्ष ब्रज किशोर सिंह, महामंत्री नवीन कुमार पाठक, असीम तिवारी, डीवीसी ठेका मजदूर संघ के ललन शर्मा, रामानंद सिंह, संजय मिश्रा, नवीन शर्मा, नरेश सिंह, कृष्णा चौधरी, योगेंद्र प्रसाद, मनोज सिंह, हिमकियू के मणि गोप, सरयू ठाकुर, आरपी केडिया, बिराठेकायु के दशरथ नायक, भारतीय ठेका मजदूर महासंघ के अध्यक्ष ब्रिज बिहारी शर्मा आदि उपस्थित थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: