NEWS

टोल प्लाजा के विरोध में ग्रामीणों का अनोखा प्रदर्शन, मुआवजा नहीं मिलने पर आत्महदाह की चेतावनी

Jamshedpur :  एनएच-33 पर जमशेदपुर और घाटशिला के बीच बन रहे गालुडीह टोल प्लाजा का ग्रामीणों ने सड़क पर उतरकर अनोखे ढंग से जोरदार विरोध किया. रविवार को बारिश के बावजूद सैकड़ों ग्रामीण सड़क पर उतरे और हाथ जोड़कर बीच सड़क पर घुटने के बल बैठ गए. उनकी मुख्य मांग जमीन अधिग्रहण के बदले उचित मुआवाजा देने की थी. इसे लेकर ग्रामीणों ने हाथ जोड़कर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से न्याय की गुहार लगाई. साथ ही जमीन के बदले उचित मुआवजा नहीं मिलने पर ग्रामीणों ने आत्मदाह की भी चेतावनी दे डाली.

बता दें कि गालुडीह के पुटुड गांव में टोल प्लाजा का निर्माण किया जा रहा है. ग्रामीणों के विरोध-प्रदर्शन में जिला परिषद सदस्य शिशिबाला, दुर्गाचरण मुर्मू एवं पुटुड गांव के पूर्व मुखिया वकील हेम्ब्रम समेत अन्य जनप्रतिनिध भी शामिल हुए. ग्रामीणों ने बताया कि गालुडीह में बनने टोल प्लाजा में करीब 40 से ज्यादा रैयतों का जमीन एनएचएआई की ओर से लिया जा रहा है, लेकिन रैयतों को जमीन का उचित मुआवाजा नहीं दिया जा रहा है. इससे रैयतों में रोष है.

दूसरे टोल प्लाजा निर्माण को करार दिया गैर कानूनी

दूसरी ओर ग्रामीणों ने थोड़ी ही दूरी पर दूसरे टोल प्लाजा के निर्माण पर भी विरोध जताया. उन्होंने इसे गैर कानूनी करार देते हुए कहा कि गालूडीह में बनने वाले टोल प्लाजा से कोकपाड़ा टोल प्लाजा से मात्र 37 किलो मीटर है. इतनी कम दूरी पर दो टोल प्लाजा नहीं बनना चाहिए. इससे आम लोगों को कुछ ही दूरी के बीच दो जगहों पर पैसा देना पड़ रहा है. सरकार को इस पर विचार करते हुए ग्रामीणों को न्याय देना चाहिए.

इसे भी पढ़ें- बहन को मोबाइल देखने से रोका तो खा लिया जहर, अस्पताल में हुई मौत

 

 

Advt

Related Articles

Back to top button