न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह ने फिर कहा, चार्ल्स डार्विन का सिद्धांत गलत, हमारे पूर्वज कपि नहीं थे

324

NewDelhi  :  मानव के क्रमिक विकास का चार्ल्स डार्विन का सिद्धांत वैज्ञानिक रूप से गलत है. मानव संसाधन विकास मंत्रालय में  केंद्रीय राज्य मंत्री  सत्यपाल सिंह ने एक बार फिर  यह बात एक समारोह में  दोहरायी. श्री  सिंह ने इस  क्रम में कहा कि विज्ञान का छात्र होने  के नाते  वे  मानते  हैं  कि उनके पूर्वज बंदर नहीं थे.  इस क्रम में  सिंह ने उनकी टिप्पणियों के लिए उन पर हमला बोलने वालों पर निशाना साधते हुए कहा  कि  किसी अन्य व्यक्ति के नजरिये की निंदा करना वैज्ञानिक भावना नहीं है. एक पुस्तक के विमोचन कार्यक्रम में सत्यपाल सिंह बोल  रहे  थे.  कहा कि मैं विज्ञान का छात्र हूं और मैंने रसायन-शास्त्र में पीएचडी की है.  मेरे खिलाफ बोलने वाले लोग कौन थे? और कितने लोगों ने मेरा साथ दिया? हमें इस पर मंथन करना चाहिए. हम प्रेस से डर जाते हैं. आज नहीं तो कल. कल नहीं तो 10-20 साल में, लोग मेरी कही गयी बातें स्वीकार करेंगे. कम से कम मेरा मानना है कि मेरे पूर्वज कपि (बंदर) नहीं थे. केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह ने कहा, किसी अन्य व्यक्ति के नजरिये की निंदा करना वैज्ञानिक भावना नहीं है. इस पर सोचा जाना चाहिए.

mi banner add

इसे भी पढ़ें- JMM और JVM से बात कर महागठबंधन की संभावनाएं तलाश रही कांग्रेस

विदेशों के 99 फीसदी विश्वविद्यालय हिंदू धर्म की गलत व्याख्या करते हैं

Related Posts

राज्यसभा में बोले पीएम, मॉब लिंचिंग का दुख, पर पूरे झारखंड को बदनाम करना गलत

सरायकेला की घटना पर जताया दुख, कहा- न्याय हो, इसके लिए कानूनी व्यवस्था है

जान लें  कि मुंबई के पुलिस आयुक्त रह चुके सिंह ने कुछ  माह  पूर्व  मानव के क्रमिक विकास के चार्ल्स डार्विन के सिद्धांत को गलत करार दिया था और कहा था कि स्कूलों एवं कॉलेजों के पाठ्यक्रम में यह बदलाव नजर आने चाहिए. इस पर विभिन्न वर्गों ने सिंह की आलोचना की थी. पूर्व आईपीएस अधिकारी ने कहा कि उन्हें शिक्षित राजनेता होने पर गर्व है  और देश का सौभाग्य  है कि राष्ट्रवादी मानसिकता की एक राष्ट्रवादी सरकार शासन में है.   उन्होंने कहा कि विदेशों के 99 फीसदी विश्वविद्यालय हिंदू धर्म की गलत व्याख्या करते हैं, गलत अनुवाद करते हैं. सिंह ने कहा, मैं एक किताब लिख रहा हूं. इस पर एक अध्याय होगा. हम किसी पश्चिमी देश के व्यक्ति से मदद नहीं लेंगे. हम साक्ष्य और दस्तावेजी प्रमाण देंगे. हम साबित करेंगे कि हम जो कह रहे हैं वह सही है. क्या हमारे किसी साधु- संत ने इंग्लैंड के किसी प्रोफेसर को अपनी बातें सत्यापित करने के लिए कही थी?’  उन्होंने कहा कि सबसे बड़ी भूल यह थी कि भारत ने अंग्रेजों की शैक्षणिक प्रणाली और मानसिकता का पालन करना जारी रखा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: