JharkhandLead NewsRanchi

रांची में बेखौफ मिलावटखोर, दो सालों में कोई नहीं हुआ दंडित

  • मिलावटी खाद्य पदार्थों की जांच के नाम पर प्रतिष्ठानों को थमा दिया जाता है सिर्फ नोटिस

Ranchi: जिले में मिलावटी मिठाई और खाद्य पदार्थ बेचने वालों को प्रशासन का कोई भय नहीं है. वजह यह कि अलग-अलग समय में प्रशासन की ओर से मिठाई दुकानों की चेंकिंग तो की जाती है, लेकिन कार्रवाई के नाम पर चेतावनी वाला नोटिस थमाने के सिवाय कुछ नहीं होता.

पिछले कुछ दिनों में रांची जिले में अलग-अलग समय में मिठाई दुकानों की जांच हुई. हिनू, बिरसा चौक, सिंह मोड़, अशोक नगर, अरगोड़ा, धुर्वा सेक्टर 6 जैसे इलाकों में जांच अभियान चलाया गया. ये विशेष जांच खोवा के लिए चलाया गया जिसमें कुछ मिठाई दुकानों में मिलावट पायी गयी. लेकिन दुकानदारों को सिर्फ नोटिस थमा दिया गया और कहा गया कि अब ये इस तरह के पदार्थ नहीं बेचेंगे.

इस दौरान कुछ दुकानों के खाद्य पदार्थों को फेंक भी दिया गया. हालांकि किसी का लाइसेंस रद्द नहीं किया गया.

इसे भी पढ़ें – वैश्विक भूख रैंकिंग में भारत 94वें स्थान पर, विशेषज्ञों ने भूख की ‘गंभीर’ श्रेणी में रखा

एक भी प्रतिष्ठान बंद नहीं किये गये

जिले में पिछले दो सालों में कई बार खाद्य पदार्थों की जांच की गयी. लेकिन मिलावट पाये जाने पर एक भी प्रतिष्ठान बंद नहीं किये गया. लाइसेंस तक रद्द नहीं हुआ.

पिछले साल डोसा प्लाजा में भी मिलावटी पनीर पाया गया था. तत्कालीन एसडीओ गरिमा सिंह ने जांच की थी. इसके बाद भी डोसा प्लाजा का लाइसेंस रद्द नहीं किया गया. इस दौरान कई और प्रतिष्ठानों की जांच की गयी थी जिसमें दुर्गा दाल मील में भी मिलावटी रंग इस्तेमाल करते हुए पाया गया था.

बता दें कि वर्तमान में लाइसेंस लेने और रद्द करने की प्रक्रिया ऑनलाइन है. ऐसे में कोई संदेह होने पर ऑनलाइन एडिटिंग की जाती है. ऐसे में तीस दिनों का समय प्रतिष्ठानों को दिया जाता है. अगर तीस दिनों में उचित जानकारी नहीं दी जाती है, तो लाइसेंस रद्द किया जाता है.

adv

इसे भी पढ़ें – सबरीमला मंदिर श्रद्धालुओं के लिए खुला, 21 अक्टूबर तक पूजा-अर्चना कर सकेंगे  

दिसंबर तक चलेगा अभियान

इस संबध में जिला फूड सेफ्टी ऑफिसर एचएस कुल्लू से बात की गयी. इन्होंने बताया कि पिछले दो साल में एक भी प्रतिष्ठान बंद नहीं किये गये हैं न ही लाइसेंस रद्द किया गया है. फिलहाल खोवा के लिए अभियान चलाया जा रहा था जिसमें कुछ प्रतिष्ठानों को नोटिस दिया गया.

आने वाले सप्ताह में 19 से 21 अक्टूबर तक अभियान चलेगा. वहीं दिसंबर तक त्योहारी सीजन रहता है. ऐसे में इस दौरान अभियान चलता रहेगा. कुल्लू के अनुसार प्रतिष्ठानों को बेस्ट बिफॉर यूज, एक्सपायरी डेट, एमएफजी डेट आदि लिखना जरूरी किया गया है.

इसे भी पढ़ें – राहुल ने फिर किया पीएम मोदी को टारगेट, गरीब भूखा है, सरकार अपने कुछ खास मित्रों की जेबें भर रही है    

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: