JamshedpurJharkhand

बेरोजगारी बनी जानलेवा: टाटा मोटर से नौकरी छूटने पर इंजीनियर ने आत्मदाह कर लिया

विज्ञापन

Jamshedpur : टाटा मोटर्स के एंसिलरी इंपीरियर ऑटो इंटस्ट्री में जूनियर इंजीनियर के पद पर काम करने वाले शख्स ने आत्महत्या कर ली. वह नौकरी छूटने की वजह से परेशान था और इसी वजह से उसने मौत को गले लगा लिया. मृतक का नाम प्रभात कुमार है और करीब एक महीने पहले कंपनी ने उसे काम पर आने से मना कर दिया था.

नौकरी छूटने की वजह से वह काफी तनाव में था. हालांकि इस पूरे मामले में किसी भी तरह की बात करने से कंपनी ने मना कर दिया है. गौरतलब है कि टाटा मोटर्स में ब्लॉक क्लोजर के बाद कुछ कर्मचारियों को बैठाया गया था. उन्हें नौकरी पर आने से मना कर दिया गया था. प्रभात भी उनमें से एक था जो एक महीने से काम नहीं कर रहा था.

क्या है ब्लॉक क्लोजर

ब्लॉक क्लोजर वो प्रक्रिया है जिसमें उत्पादन को कुछ दिनो के लिए बंद करना पड़ता है. टाटा मोटर्स की दलील है कि ब्लॉक क्लोजर हर साल दोहरायी जाती है लेकिन इस साल कारण बेहद गंभीर है.

टाटा मोटर्स की तरफ से ये कहा गया है कि बाजार में मंदी है और मांग में भारी गिरावट है, जिसके चलते गाडियों का स्टॉक भर गया है और नये प्रोडक्शन की जरूरत नहीं है. इस हालत में कंपनी से कर्मचारियों की छटनी की जाती है.

क्या है मामला

इधर प्रभात के परिजनों ने घटना के बारे में बताया कि वह नौकरी छूटने के बाद से ही काफी तनाव में रहने लगा था. एक महीने पहले उसकी नौकरी छूट गयी थी. जिसके बाद गुरुवार को सुबह करीब 9.30 बजे उसने अपने उपर केरोसिन डालकर आग लगा ली.

आग लगाने के बाद वह चीखने लगा और पड़ोसी के घर में जा गिरा. उसने आग अपने घर से करीब 100 मीटर की दूरी पर लगायी थी. वह जोर-जोर से अपनी मां का नाम पुकार रहा था. उसकी आवज सुनकर लोगों की भीड़ जमा हो गयी. लोगों ने जब उसे आग में जलते देखा तो पूरी बस्ती में अफरातफरी मच गयी.

जैसे तैसे आग बुझायी गयी. जब तक आग पर काबू पाया गया तब तक प्रभात काफी जल चुका था. आनन-फानन में उसे परिजनों टीएमएच में भर्ती कराया. लेकिन बीसीयू में एडमिट करने के दो घंटे बाद ही उसकी मौत हो गयी.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close