Fashion/Film/T.VJamshedpurJharkhand

Entertainment : ऋचा चड्ढा और अली फजल की अनोखी पहल, अंडरकरंट लैब लांच 

News Wing Desk: ऋचा चड्ढा उन कुछ अभिनेत्रियों में से एक हैं जो उद्योग जगत में लिंग प्रतिनिधित्व की बात करती हैं. वह निर्देशक शुचि तलाती के साथ उन महिलाओं के लिए एक ऊष्मायन कार्यक्रम स्थापित कर रही हैं, जो फिल्म उद्योग में गैफर के रूप में काम करने की उम्मीद करती हैं. ‘अंडरकुरेंट लैब’ नामक कार्यक्रम आधिकारिक तौर पर 13 जून को लांच हो गया.  यह फिल्म और टेलीविज़न एसोसिएशन भारत (WIFT) में महिलाओं और ‘लाइट एन लाइट’ जो बॉलीवुड में सबसे बड़े लाइट्स और ग्रिप उपकरण प्रदाताओं में से एक के बीच एक संयुक्त साझेदारी है.

इस इन्क्यूबेशन लैब की स्थापना हिंदी फिल्मों में अधिक से अधिक महिला गैफरों को पेश करने के उद्देश्य से की गई है. अपने पहले वर्ष में, ‘अंडरकरेंट लैब’ सिनेमा के लिए लाइट व्यवस्था में दस महिलाओं (कठोर प्रक्रिया के बाद चयनित) को लाइटिंग करने पर ध्यान केंद्रित करेगी. यह अपनी तरह की पहली व्यावहारिक कार्यशाला के साथ शुरू होगा जहां प्रशिक्षु उद्योग के छायाकार से कला सीखेंगे. सप्ताह भर के क्रैश कोर्स के बाद लड़कियों को फिल्म के सेट पर प्रशिक्षु के रूप में काम करने के लिए भेजा जाएगा. दस में से दो लड़कियों को ऋचा और अली के पहले प्रोडक्शन – ‘गर्ल्स विल बी गर्ल्स’ पर लगभग सभी महिला क्रू में रखा जाएगा, जिसकी शूटिंग इस साल अक्टूबर से होगी.

श्रृचा है सह संस्‍थापक

Catalyst IAS
SIP abacus


‘अंडरकरंट लैब’ की सह-संस्थापक ऋचा चड्ढा कहती हैं, “जब हमने एक पूरी महिला टीम बनाई, तो हमने पाया कि हिंदी फिल्मों में लाइट विभाग में काम करनेवाली लगभग कोई महिला नहीं है. इसलिए यह प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू कर रहे हैं, जिसका उद्देश्य कैमरे के पीछे महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाना है. मुझे उम्मीद है कि इस पहल से इस उद्योग में काम करने के तरीके में बहुत बड़ा बदलाव आएगा.” निदेशक शुचि तलाती कहती हैं, “हमने इस लैब को स्थापित करने के लिए इस साल फरवरी में बर्लनेल टैलेंट फुटप्रिंट्स में अनुदान के लिए आवेदन किया और जीत हासिल की. ‘अंडरकरंट लैब’ फिल्म उद्योग में लाइट विभाग में एक ठोस करियर बनाने का अवसर देगी. हमारे दस उम्मीदवारों के लिए जिन्हें साक्षात्कार की एक सावधानीपूर्वक श्रृंखला के बाद चुना गया है. हम एरी, बर्लीनेल, लाइट एन लाइट और ग्रेटिट्यूड हाउस के लोगों के आभारी हैं कि वे हमारी मदद करने के लिए आगे आए.

Sanjeevani
MDLM

ये भी पढ़ें-Elephant Terror : जंगल में हाथी-गांव में दहशत, राजाबासा जंगल में डेरा जमाए 114 हाथियों को कॉरिडोर में मूवमेंट कराने बंगाल से पहुंची टीम VIDEO

Related Articles

Back to top button