Crime NewsDeogharJharkhand

सीएसपी की आड़ में पति-पत्नी कर रहे थे साइबर अपराधियों को मदद, 11 गिरफ्तार

गिरफ्तार आरोपियों के पास से 25 मोबाइल फोन, 19 एटीएम कार्ड और 19500 रुपये बरामद

Deoghar: कम समय में ज्यादा पैसे कमाने के लालच में अब साइबर अपराध के धंधे में महिलाओं ने भी इंट्री मारी है. ऐसा ही मामला सामने आया है देवघर जिला में, जहां कुंडा थाना के चांदडीह का अल्ताफ अंसारी अपनी पत्नी के साथ सीएसपी की आड़ में साइबर अपराधियों को 20 प्रतिशत की राशि लेकर पैसों का पेमेंट करते थे.

इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार, देवघर साइबर थाना की पुलिस ने 11 साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया है. साइबर थाना की पुलिस ने देवघर जिला के सारठ थाना क्षेत्र के नयाखरना, पथरड्डा ओपी क्षेत्र के घाघरा, मारगोमुंडा थाना क्षेत्र के कानो और कुंडा थाना क्षेत्र के चांदडीह गांव से उक्त साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया है.

शनिवार को इस बाबत जानकारी देते हुए मुख्यालय डीएसपी मंगल सिंह जामुदा ने बताया कि इन साइबर अपराधियों के पास से 25 मोबाइल, 32 सिम कार्ड, 19 एटीएम कार्ड, 8 पासबुक, 6 चेकबुक, 4 स्वाइप मशीन और 19500 रुपया नकद बरामद किया गया है.

advt

इसे भी पढ़ें – Giridih: डुप्लीकेट शराब बेचने से इनकार किया तो दुकान के कर्मियों को ठेकेदार ने पीटा

गिरफ्तार अपराधियों में 33 वर्षीय सुनील महरा, 24 वर्षीय बलराम मंडल, 21 वर्षीय सचिन मंडल, 24 वर्षीय बबलू मंडल, 27 वर्षीय मुरली दास, 30 वर्षीय सूचित दास, 19 वर्षीय रमेश दास, 23 वर्षीय पंकज दास, 35 वर्षीय अल्ताफ अंसारी, 25 वर्षीय फुरकान अंसारी और 19 वर्षीय मोहम्मद कैफ नाम शामिल है.

डीएसपी द्वारा यह जानकारी दी गयी कि गिरफ्तार साइबर अपराधी अल्ताफ अंसारी अपनी पत्नी के साथ सीएसपी चलाता है. जबकि गिरफ्तार सुनील महरा पूर्व में सारठ थाना में दर्ज एक मामले का अभियुक्त है.

डीएसपी ने बताया कि इन साइबर अपराधियों द्वारा साइबर ठगी की घटना को अंजाम देने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपनाए जाते थे. साइबर अपराधी गूगल सर्च इंजन का कस्टमर केयर अधिकारी बनकर लोगों को लॉटरी का प्रलोभन देकर पैसों की ठगी करते थे. साथ ही ये साइबर अपराधी फर्जी बैंक अधिकारी बनकर लोगों को फोन करते हैं और उन्हें बताते हैं कि उनका एटीएम बंद होने वाला है. इसके अलावा केवाइसी अपडेट कराने के नाम पर भी ठगी की जाती है. इन अपराधियों द्वारा साइबर ठगी के लिए गूगल पे का भी सहारा लिया जाता था. साथ ही साइबर अपराधियों द्वारा वर्चुअल पेमेंट एड्रेस के माध्यम से भी ठगी की जाती थी.

मौके पर साइबर सेल की डीएसपी नेहाबाला, पुनि संगीता कुमारी, थाना प्रभारी सुधीर कुमार पोद्दार सहित अन्य पुलिस अधिकारी मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें – गिरिडीह: फैक्ट्रियों में सुरक्षा मानकों का कितना हो रहा पालन, भाजपा ने की जांच की मांग

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: