न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बिहार एनडीए में खींचतानः ‘असम्मानजनक’ सीट बंटवारा मंजूर नहीं- चिराग पासवान

29

New Delhi: बिहार एनडीए में सीटों के बंटवारे को लेकर पेंच फंसती दिख रही है. रालोसपा के बाद लोकजनशक्ति पार्टी ने भी स्पष्ट कर दिया है कि सीट बंटवारे पर असम्मानजनक समझौते को बर्दाश्त नहीं करेगी. लोजपा के 19वें स्थापना दिवस कार्यक्रम को यहां संबोधित करते हुए पार्टी के संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा कि इस बार गठबंधन में जदयू के जुड़ने के कारण सबसे बड़े भागीदार के नाते भाजपा को अपने सहयोगियों के लिए और सामंजस्य बनाना होगा.

असम्मानजनक समझौता मंजूर नहीं

चिराग पासवान ने कहा कि बिहार के लिए सीट बंटवारे का फार्मूला जल्द सामने आयेगा. साथ ही उन्होंने उन अटकलों को सिरे से खारिज कर दिया जिसमें कहा जा रहा है कि 2014 की तुलना में लोजपा को कम सीटें दी जा सकती है. लोजपा नेता ने संवाददाताओं से कहा, भाजपा अध्यक्ष ने सम्मानजनक समझौते की बात कही थी. मैं उतनी सीटों को स्वीकार नहीं करूंगा, जो लोकजनशक्ति पार्टी के लिए किसी भी तरह असम्मानजनक हो.

उन्होंने कहा, ‘‘बिहार में सीट बंटवारे का फार्मूला जल्द सामने आएगा. राजग में सबसे बड़ा दल होने के नाते भाजपा को अपने सहयोगियों के लिए और सामंजस्य करना होगा.’’

कुशवाहा पर साधा निशाना

बिहार में सीट बंटवारे को लेकर रालोसपा प्रमुख और केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा की नाराजगी के बारे में चिराग ने कहा, ‘‘मैं कुशवाहा के असंतोष को नहीं समझ पाता हूं. उन्होंने सीट बंटवारे की चर्चा को सार्वजनिक कर दिया यह गलत है.’’ साथ ही कहा कि राजग में होते हुए विपक्षी नेताओं से बात कर वह दो नाव पर सवार होने का प्रयास कर रहे हैं. हालांकि उन्होंने उम्मीद जताई कि कुशवाहा एनडीए के घटक के तौर पर चुनाव लड़ेंगे.

लोजपा नेता रामविलास पासवान ने कहा कि उनके बेटे चिराग पासवान सीट बंटवारे पर वार्ता में पार्टी का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘उनके सभी फैसले लोजपा अध्यक्ष के फैसले माने जाएंगे.’ पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि उन्होंने हमेशा भीमराव आंबेडकर और राममनोहर लोहिया का अनुसरण किया जो कि जाति नहीं समुदाय की बात करते थे. बता दें कि वर्ष 1969 में विधायक बनने वाले रामविलास पासवान 2019 में राजनीति में 50 साल पूरे कर लेंगे.

उल्लेखनीय है कि 2014 के लोकसभा चुनाव में बिहार की 40 सीटों में से सात पर लोजपा ने चुनाव लड़ा था. वही रालोसपा सीट बंटवारे के फॉर्मूले से पहले ही असंतुष्ट है. कुशवाहा ने बीजेपी को 30 नवंबर तक का समय दिया है. वही एनडीए के घटक दल रालोसपा और जेडीयू के बीच वाक् युद्ध काफी लम्बे समय से चला आ रहा है.

इसे भी पढ़ेंःएनोस की पत्नी मेनन की जिस जमीन को ईडी ने किया था जब्त, उस पर चल रही है नर्सरी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: