Corona_UpdatesLead NewsNationalOFFBEATWorld

अविश्वनीय : एक-दो बार नहीं 43 बार हुआ कोविड-19, हर बार हराया 72 साल के कोरोना योद्धा ने

हालत खराब हुई तो सात बार अस्पताल में भी दाखिल होना पड़ा था

New Delhi : जिस कोरोना महामारी का नाम सुनते ही सिहरन होने लगती है, जिसने पूरी दुनिया में लाखों लोगों की जान ले ली है. इन सबके बीच आपने सुना होगा कि कोई शख्स कोरोना से एक या दो बार संक्रमित हुआ होगा. लेकिन दुनिया में एक शख्स ऐसा भी है जो अविश्वनीय ढंग से 43 बार कोरोना संक्रमित हुआ. कमाल की बात ये है कि जिस कोरोना वायरस के चपेट में आने से जवान और तंदरूस्त लोगों की हालत खराब हो जाती है उस वायरस के हमले को उसने हर बार मात दी है. कोरोना के खिलाफ इस अनूठी जंग में इस कोरोना योद्धा को कम से कम सात बार अस्पताल में भी भर्ती होना पड़ा.

इसे भी पढ़ें :कोरोना के खिलाफ जंग के लिए मिला एक और हथियार, ‘कोवोवैक्स’ का प्रोडक्शन हुआ शुरू

रिटायर्ड ड्राइविंग इंस्ट्रक्टर है

ram janam hospital
Catalyst IAS

ये अनोखा योद्धा ग्रेट ब्रिटेन के ब्रिस्टल का रहने वाला है. ड्राइविंग इंस्ट्रक्टर रह चुके अदभुत जिजीविषा वाले इस इन्सान का नाम डेव स्मिथ है. डेव का कहना है कि वो एक नहीं, दो नहीं बल्कि 43 बार कोरोना की लपेटे में आया.

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें :आज ही के दिन मंगरा में हुई थी पैसेंजर ट्रेन और मालगाड़ी में टक्कर, 60 लोग समा गये थे काल के गाल में

दिलचस्प केस, गहराई से अध्ययन की जरूरत

इस संबंध में नॉर्थ ब्रिस्टल एनएचएस ट्रस्ट के मोरन कहते हैं कि स्मिथ की शरीर में कोरोना के सक्रिय वायरस थे. 72 साल के स्मिथ पिछले 10 महीनों में 43 बार कोरोना पॉजिटिव पाए गए.

यह अब तक ज्ञात मामलों में सबसे अनोखा और अलग तरह का केस है. मेडिकल फील्ड से जुड़े लोगों का कहना है कि अगर डेव स्मिथ की उम्र को देखा जाए तो यह एक दिलचस्प केस है जिस पर बहुत गहराई से शोध की जरूरत है.

अगर कोरोना की पहली और दूसरी लहर को देखें तो बुजुर्गों पर खतरा रहा है. इस केस को अपवाद इसलिए नहीं माना जा सकता क्योंकि वो शख्स 43 बार कोरोना संक्रमित हो चुका है.

इसे भी पढ़ें :पीएम हाउस में बैठक के बाद कितनी बदलेगी कश्मीर की तस्वीर !

नौकरी से इस्तीफा दे दिया

इसे केस स्टडी मानकर रिसर्च भी किया जा रहा है. स्मिथ बताते हैं कि जब वो इस तरह से बीमार पड़ने लगे तो नौकरी से इस्तीफा दे दिया और परिवार वालों को बुलाकर कहा कि अब चलने का समय आ गया है. ये बात अलग है कि इतने दफा कोरोना संक्रमित होने के बाद भी वो जिंदा बच निकले.

जानकारों का कहना है कि कोरोना महामारी के दौरान अलग अलग मामले सामने आ रहे हैं लेकिन इस शख्स का केस अलग है. सात बार अस्पताल में भर्ती होना और बच कर निकल जाना किसी जादू से कम नहीं है.

इसे भी पढ़ें :झारखंड में प्रधानमंत्री आवास योजना (अर्बन) का हाल, 50 फीसदी ही काम पूरा

Related Articles

Back to top button