न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

अंपायरों को आंखें खुली रखनी चाहिए, आईपीएल क्लब क्रिकेट नहीं है : कोहली

मुंबई इंडियंस ने गुरुवार को खेले गये इस मैच को छह रन से जीता

44

Bengaluru : मुंबई इंडियंस के खिलाफ आखिरी गेंद को नो बॉल नहीं दिये जाने से निराश रॉयल  चैलेंजर्स बैंगलुरू के कप्तान विराट कोहली ने इंडियन प्रीमियर लीग के अंपायरों को ‘आंखें खुली’ रखने की सलाह दी, जिसका समर्थन विरोधी कप्तान रोहित शर्मा ने भी किया.

mi banner add

मुंबई इंडियंस ने गुरुवार को खेले गये इस मैच को छह रन से जीता, लेकिन कोहली और रोहित दोनों ने मैच के दौरान अंपायरिंग के स्तर की आलोचना की.

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को आखिरी गेंद पर 7 रनों की जरूरत थी. मुंबई इंडियंस के लसिथ मलिंगा की गेंद पर शिवम दुबे ने लॉन्ग ऑन शॉट खेला. हार की निराशा के कारण क्रीज पर मौजूद दोनों बल्लेबाज रन के लिए नहीं दौड़े,

लेकिन रीप्ले में साफ दिखा की मलिंगा का पैर क्रीज से बाहर था और यह नोबोल थी, किंतु अंपायर एस.रवि ने इस पर ध्यान नहीं दिया.

इसे भी पढ़ें – महागठबंधन में जगह नहीं मिलने के बाद सीपीआई की चुनावी रणनीतिः हजारीबाग, चतरा व दुमका से देगी…

‘आखिरी गेंद पर यह निराशाजनक फैसला था’

अगर अंपायर ने इसे नो बॉल करार दिया होता तो बेंगलुरु की टीम को फ्री हिट मिलता और स्ट्राइक पर अनुभवी एबी डिविलियर्स होते, जो शानदार लय में थे और 70 रन पर बल्लेबाजी कर रहे थे.

ऐसा होने पर रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर इस मैच को जीत सकता था. कोहली ने मैच के बाद पुरस्कार वितरण समारोह में कहा, ‘‘ हम आईपीएल के स्तर पर खेल रहे हैं, यह कोई क्लब क्रिकेट नहीं है.

Related Posts

वर्ल्ड कपः सेमीफाइनल में जगह बनाने के बावजूद स्टार्क ने ऑस्ट्रेलियाई टीम को किया सतर्क

विश्व कप के सेमीफाइनल में पहुंचनेवाली ऑस्ट्रेलिया पहली टीम

अंपायरों की आंखें खुली होनी चाहिए, यह बड़ी नो-बॉल थी. आखिरी गेंद पर यह निराशाजनक फैसला था. अगर इस तरह के फैसले आते हैं, तो मुझे नहीं पता कि क्या हो रहा है. अंपायर को वहां अधिक चौकना और सजग रहना चाहिए था.’’

इसे भी पढ़ें – झारखंड में बुझता लालटेन, राजद के गिरिनाथ सिंह ने भी थामा बीजेपी का हाथ, कहा : चतरा के लिए इंटरस्टेड…

खास बात यह है कि रवि कई वर्षों से आईसीसी के एलीट पैनल में एकमात्र भारतीय अंपायर हैं. रोहित ने भी मैच के दौरान अंपायरिंग के स्तर की आलोचना की. उन्होंने कहा, ‘‘ ईमानदारी से कहूं तो मुझे मैदान से बाहर जाने के बाद पता चला कि वो एक नो बॉल थी.

ऐसी गलतियां खेल के लिए अच्छी नहीं है. जीतना और हारना मायने नहीं रखता. यह (गलती) क्रिकेट के खेल के लिए अच्छा नहीं है.’’ रोहित ने मैच के दूसरे अंपायर सी नंदन की ओर इशारा करते हुए कहा कि 19वें ओवर में उनकी टीम के खिलाफ भी गलत फैसला दिया गया.

उन्होंने कहा कि, ‘‘ इससे पहले वाले ओवर (19वें ओवर) में जब जसप्रीत बुमराह गेंदबाजी कर रहे थे, तब एक गेंद को वाइड दिया गया था जो कि वाइड नहीं थी.’’

इसे भी पढ़ें – अनुकंपा पर बहाल शिक्षकों से काम तो लिया जा रहा, लेकिन नहीं दिया जा रहा नियुक्ति पत्र

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: