World

यूकेः गर्भ में पल रहे 20 हफ्ते के अजन्मे बच्चे की स्पाइन का सफल ऑपरेशन

London: मेडिकल साइंस ने यूं तो काफी तरक्की कर ली है. और गंभीर से गंभीर बीमारी का इलाज आज की तारीख में संभव है. लेकिन यूनाइटेड किंगडम में डॉक्टर्स ने जो कर दिखाया, वो किसी करिश्मे से कम नहीं. यहां एक बेहद अनोखी और सफल सजर्री को अंजाम दिया गया. जिसमें एक महिला के गर्भ में पल रहे बच्चे की स्पाइन की सफल सर्जरी की गई.

दरअसल, एसेक्स की रहने वाली 26 वर्षीय बेथन सिंपसन को डॉक्टर्स ने 20 सप्ताह के स्कैन के बाद बताया कि उनके गर्भ में पल रही उनकी बेटी को spina bifida है.

क्या है spina bifida?

Catalyst IAS
SIP abacus

स्पलिन बिफिडा एक तरह का बर्थ डिफेक्ट यानी जन्म दोष है जिसमें गर्भ में पल रहे बच्चे की स्पाइनल कॉर्ड सही तरह से विकसित नहीं हो पाता है. या फिर ग्रोथ रुक जाती है. इससे स्पाइन यानी रीढ़ की हड्डी में गैप बन जाता है. इसके पीछे किसी ठोस कारण का अब तक पता नहीं चल सका है. लेकिन डॉक्टर्स की मानें तो प्रेग्नेंसी की शुरुआत में फॉलिक ऐसिड की कमी से इस तरह की समस्या का खतरा होता है. इसके अलावा प्रेग्नेंसी के समय कई दवाओं के सेवन से और अगर फैमिली में किसी को भी spina bifida की समस्या रही हो तो इससे बच्चे को इस बीमारी का खतरा बढ़ जाता है.

Sanjeevani
MDLM

यूके में सिंपसन ऐसी चौथी महिला हैं, जिनकी “foetal repair” सर्जरी की गई. 4 घंटे चली इस सर्जरी में सिंपसन के गर्भ को खोला गया जिसमें बच्चे के बॉटम को खुला देखा गया. डॉक्टर्स ने बच्चे को निचले स्पाइन में एक छोटा छेद बनाया. पहले डॉक्टर्स ने कॉम्प्लिकेशन्स को देखते हुए कहा था कि सिंपसन के लिए अबॉर्शन करना ज्यादा सही रहेगा. लेकिन सिंपसन इसके लिए तैयार नहीं थी. और आखिरकार सर्जरी हुई, इस दौरान बेबी को उठाकर सही पॉजिशन में रखा गया. साथ ही साथ बच्चे की स्पाइनल कॉर्ड को भी सही पोजिशन में किया गया. ऑपरेशन सफल रहा और बच्चे के जन्म का समय अप्रैल 2019 में होगा.

इसे भी पढ़ेंः स्मार्टफोन पर म्यूजिक सुनना हो सकता है खतरनाक, एक अरब से अधिक लोगों को कम सुनाई देने का खतरा: यूएन

Related Articles

Back to top button