न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ब्रिटेन की अदालत ने भारतीय बैंकों को विजय माल्या से पैसों की वसूली का हकदार बताया

329

NewDelhi : ब्रिटेन की अदालत ने भारत के भगौड़े शराब कारोबारी विजय माल्या को कानूनी खर्च के एवज में भारत के 13 बैंकों को एक करोड़ 80 लाख रुपए चुकाने का निर्देश दिया है.  फैसले के तहत यूके हाईकोर्ट के इंफोर्समेंट ऑफिसर को विजय माल्‍या की लंदन के पास की में दाखिल होने की अनुमति दी गयी है. यह आदेश अधिकारी और उनके साथियों को तेविन में लेडीवॉक और ब्रेंबल लॉज में दाखिल होने की अनुमति देता है.

इसे भी पढ़़े़ें :   कर्नाटक : अंधवि श्वासी हैं मंत्री रेवन्ना, ऑफिस आने-जाने के लिए 342 किलोमीटर की दूरी तय करते हैं 

विजय माल्‍या वर्तमान में यहीं रहते हैं

विजय माल्‍या वर्तमान में यहीं रहते हैं. बैंक इस आदेश को लगभग 1.145 बिलियन पौंड की भारी भरकम रकम वसूलने के उपाय विकल्‍प के रूप में इस्‍तेमाल कर सकते हैं. ब्रिटेन की अदालत ने भारतीय अदालत की इस व्यवस्था को सही ठहराते हुए भारतीय स्टेट बैंक की अगुवाई वाला 13 भारतीय बैंकों के समूह को विजय माल्या से लगभग 1.145 अरब पौंड की वसूली का हकदार बताया है.

इंफोर्समेंट ऑफिसर माल्‍या से जुड़े सामान की तलाश कर सकते हैं

जस्टिस बायरन के 26 जून के आदेश में कहा गया है  कि इंफोर्समेंट ऑफिसर और उनके तहत काम करने वाले एजेंट माल्‍या से जुड़े सामान की तलाश और उस पर नियंत्रण के लिए लेडीवॉक, क्‍वीन हू लेन, तेविन, वेलविन और ब्रेंबल लॉज में प्रवेश कर सकते हैं. हाईकोर्ट इंफोर्समेंट ऑफिसर और उनके तहत काम करने वाले एजेंट जरूरत पड़ने पर संपत्ति में घुसने के लिए ताकत का इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं.

13 बैंकों ने किया है विजय माल्या के खिलाफ केस

भारतीय स्टेट बैंक, बैंक आफ बड़ौदा, कारपोरेशन बैंक,  फेडरल बैंक,  आईडीबीआई बैंक , इंडियन ओवरसीज बैंक, जम्मू कश्मीर बैंक, पंजाब एंड सिंध बैंक, पंजाब नेशनल बैंक , स्टेट बैंक आफ मैसूर, यूको बैंक, यूनाइटेड बैंक आफ इंडिया व जेएम फिनांशल एसेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी ने विजय माल्या के खिलाफ कर्ज वापसी के लिए केस किया है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: