JharkhandLead NewsRanchi

UGC : विवि व कॉलेज शिक्षकों की रिक्ति, आरक्षण व विज्ञापन से संबंधित जानकारी 31 दिसंबर 2021 तक मॉनिटरिंग पोर्टल पर करें अपलोड

Ranchi : देश की उच्च शिक्षा की स्थिति में सुधार को लेकर यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन ने देशभर के विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के प्रमुख को इंपॉर्टेंट पत्र लिखा है. इस पत्र में यूजीसी ने विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में शिक्षकों के रिक्त पदों को लेकर चिंता भी जाहिर की है. विश्वविद्यालयों को मिले पत्र में यूजीसी ने स्पष्ट कहा है कि संबंधित संस्थान और विश्वविद्यालय शिक्षकों की रिक्ति, आरक्षण व विज्ञापन से संबंधित जानकारी 31 दिसंबर 2021 तक यूजीसी मॉनिटरिंग पोर्टल पर अपलोड करें. साथ ही यूजीसी ने शिक्षकों की नियमित नियुक्ति शीघ्र करने का निर्देश दिया है.

इसे भी पढ़ें : फिर से अपनी वेबसाइट को रि-डिजाइन कराएगा JREDA, निकाला टेंडर

5 बार भेजा गया है पत्र

Chanakya IAS
Catalyst IAS
SIP abacus

शिक्षकों के रिक्त पदों में नियुक्ति को लेकर यूजीसी ने थोड़ी नाराजगी भी जाहिर की है. यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन की ओर से इससे पहले 5 बार सभी कॉलेजों और विश्वविद्यालयों को पत्र लिखकर शिक्षकों की नियुक्ति करने को कहा था. यूजीसी ने कहा है कि सभी विवि व कॉलेजों को इससे पूर्व यूजीसी ने चार जून, 31 जुलाई, सात अगस्त, पांच सितंबर व 22 अक्तूबर 2019 को पत्र भेजकर शिक्षक नियुक्ति करने का निर्देश दिया था, लेकिन इसका पालन नहीं हुआ. यह चिंतनीय है. यूजीसी के सचिव ने सभी विवि के कुलपति व कॉलेजों के प्राचार्य को पत्र भेज कर कहा है कि कॉलेजों में शिक्षकों की कमी को दूर करें. शिक्षकों की कमी से पठन-पाठन पर बुरा असर पड़ रहा है. विवि व कॉलेज शिक्षकों की रिक्ति, आरक्षण व विज्ञापन से संबंधित जानकारी 31 दिसंबर 2021 तक यूजीसी मॉनिटरिंग पोर्टल पर अपलोड करें.

The Royal’s
Sanjeevani
MDLM

झारखंड में 2008 में ही हुई है नियमित नियुक्ति

झारखंड के विवि में वर्ष 2008 में ही लगभग 800 असिस्टेंट प्रोफेसर की नियमित नियुक्ति हुई. इसके बाद 1118 असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति प्रक्रिया शुरू की गयी, लेकिन 15 जनवरी 2019 से नियुक्ति प्रक्रिया जेपीएससी के पास लंबित है. जेपीएससी ने बैकलॉग में 566 रिक्ति के विरुद्ध नियुक्ति प्रक्रिया तथा प्रोफेसर के 70 रिक्त पद के विरुद्ध नियुक्ति प्रक्रिया आरंभ की है. असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति प्रक्रिया आरक्षण रोस्टर व नयी नियमावली के पेंच में फंसी हुई है. झारखंड सरकार द्वारा यूजीसी रेगुलेशन 2018 लागू किया है, जबकि यूजीसी रेगुलेशन 2010 अब तक लागू नहीं हो सका है. इधर, राज्यपाल सह कुलाधिपति रमेश बैस ने भी विवि में नियमित शिक्षकों की नियुक्ति नहीं होने पर चिंता व्यक्त की है. राज्य में फिलहाल सरकारी विवि में रांची विवि, विनोबा भावे विवि, सिदो-कान्हू मुर्मू विवि, नीलांबर पीतांबर विवि, कोल्हान विवि के साथ डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी विवि व विनोद बिहारी महतो कोयलांचल विवि हैं.

इसे भी पढ़ें : खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2021 के लिए झारखंड की हॉकी, फुटबॉल और कबड्डी टीम का 29 नवंबर से ट्रायल

असिस्टेंट प्रोफेसर के रिक्त पद

विवि व्याख्याता (रेगुलर)

रांची विवि : 120

विनोबा भावे विवि : 10

सिदो-कान्हू मुर्मू विवि : 72

नीलांबर-पीतांबर विवि : 111

कोल्हान विवि : 239

कुल : 552

इसे भी पढ़ें : 15 दिसंबर से अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें होंगी शुरू, ब्रिटेन, साउथ अफ्रीका समेत 14 देशों पर जारी रहेगा प्रतिबंध

Related Articles

Back to top button