न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रक्षा विश्वविद्यालय के दो साल पूरे, विश्वविद्यालय को अब तक नहीं मिला स्थाई कुलपति

इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में मुख्यमंत्री रघुवर दास तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में शिक्षा मंत्री नीरा यादव और रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय-अहमदाबाद के महानिदेशक विकास सहाय मौजूद रहे.

130

Ranchi : झारखंड रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय के दो साल पूरे हो गए हैं. बुधवार को विश्वविद्यालय का दूसरा स्थापना दिवस मनाया  गया. इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में मुख्यमंत्री रघुवर दास तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में शिक्षा मंत्री नीरा यादव और रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय-अहमदाबाद के महानिदेशक विकास सहाय मौजूद रहे.

मौके पर विश्वविद्यालय में पढ़ाई कर रहे छात्र-छात्राओं ने मॉडल के माध्यम से सुरक्षा के उपाय बताए. जिसे मुख्‍यमंत्री रघुवर दास ने बारीकी से देखा. उद्योगों की सुरक्षा को लेकर तैयार किए गए मॉडल भी यहां प्रदर्शित किए गए. गुजरात व राजस्थान के बाद देश के इस तीसरे रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय का शुभारंभ तीन अक्टूबर 2016 को श्रीकृष्ण लोक प्रशासन संस्थान के पुराने भवन में किया गया था.

इसे भी पढ़ें – कागजों में सिमट गया 14 हजार करोड़ का एक्शन प्लान, मियाद पूरी होने में सिर्फ चार माह बाकी

hosp3

दो साल में भी कुलपति की नियुक्ति नहीं

विश्वविद्यालय की स्थापना के दो साल पूरे होने के बाद भी इसके कुलपति की नियुक्ति नहीं हो सकी है. वर्तमान में नगर विकास विभाग के सचिव अजय कुमार सिंह इसके प्रभारी कुलपति हैं. इसके द्वारा उच्च एवं तकनीक शिक्षा विभाग का सचिव पद छोड़ने के बाद से प्रयास लगाए जा रहे थे कि कुलपति के रूप में राजभवन जल्द ही कोई नाम रख सकता है. वहीं हाल के दिनों में इस बात पर भी चर्चा है कि झारखंड कैडर के आईपीएस अनिल पाल्टा इस विश्ववद्यालय के कुलपति के रूप में पदभार ले सकते हैं.

इसे भी पढ़ें – जमाबंदी रद्द करने का आदेश, फिर भी सीओ की पत्नी ने खरीद ली जमीन

206 करोड़ से तैयार हो रहा कैंपस

विश्वविद्यालय का नया भवन खूंटी के जुरडेग में 75 एकड़ भूमि में तैयार हो रहा है. इसपर 206 करोड़ रुपये की डीपीआर तैयार की गई है. साथ ही 2020 से नए कैंपस में पढ़ाई शुरू करने का लक्ष्य रखा गया है.

इसे भी पढ़ें –  पार्षद पति व निगम के कर्मचारी ने मिलकर हड़पे प्रधानमंत्री आवास योजना के 45 हजार रुपये, मामला दर्ज

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: