JharkhandPalamu

40-40 हजार में सौदा हुआ था दो सगी बहनों का, दलाल गिरफ्तार

Palamu  : मानव तस्करी रोकने को लेकर चलाए जा रहे अभियान में महिला थाना पुलिस ने दलाल की चंगुल से दो सगी बहनों को मुक्त कराया है. उन्हें बेचने के लिए 40-40 हजार रुपये में सौदा हुआ था. इस सिलसिले में एक दलाल को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है. दोनों पीड़िता बिहार के नवीनगर की रहने वाली हैं. महिला थाना प्रभारी दुलर चौड़े ने डाल्‍टनगंज रेलवे स्टेशन पर कार्रवाई कर जम्मूतवी एक्सप्रेस से दोनों बहनों को मुक्त कराया गया. दोनों में एक बहन नाबालिग है.

गिरफ्तार दलाल मेदिनीनगर के बारालोटा का रहने वाला

महिला थाना प्रभारी दुलर चौड़े ने बताया कि मामले में पुलिस ने दलाल की पत्नी को भी हिरासत में लिया है. गिरफ्तार दलाल मेदिनीनगर  के बारालोटा का रहने वाला है. पुलिस को सूचना मिली थी कि कुछ दलाल लड़कियों को ट्रेन से बाहर ले जाने वाले हैं. इसी सूचना के आलोक में महिला थाना प्रभारी दुलर चौड़े और टीओपी वन के प्रभारी मंतुस महतो के नेतृत्व में पुलिस ने डालटनगंज रेलवे स्टेशन पर छापेमारी कर दोनों सगी बहनों को मुक्त करवाया और उन्हें सुधार गृह भेज दिया गया है.

advt

दोनों को राजस्थान ले जाया जा रहा था

महिला थाना प्रभारी दुलर चौड़े ने बताया कि शादी करने की नियत से दोनों लड़कियों को राजस्थान ले जाया जा रहा था. एक लड़की पहले घर से निकली थी और दलाल शैलेश कुमार के चक्कर में आ गई थी, जिसके बाद शैलेश कुमार राम ने दोनों को अपने घर में बुला लिया था.

भाई और भाभी के डर से भागी थी दोनों लड़कियां

मुक्त हुई लड़कियों ने बताया कि उन्हें सौतेला भाई और भाभी तंग करते थे, जिस कारण वे करीब एक महीने पहले घर छोड़ कर भाग गईं थीं. इसी दौरान वे डालटनगंज रेलवे स्टेशन पर पंहुची. जहां शैलेश कुमार राम और उनकी पत्नी के संपर्क में आई. मुक्त करवाई गई दोनों बहनों के माता-पिता नहीं है, उनके पांच सौतेले भाई हैं.

राजस्थान से लड़कियों को लेने आया युवक हुआ फरार

गिरफ्तार दलाल ने पुलिस को बताया है कि वह पहले भी कई लड़कियों की राजस्थान भेज चुका है और इसके बदले उसे हजारों रुपए मिले हैं. शैलेश कुमार राम का साढ़ू राजस्थान में रहता है. उसी के माध्यम से राजस्थान में लड़कियों को भेजा जाता है. लड़कियों को लेने राजस्थान से एक लड़का भी आया था. लेकिन डालटनगंज रेलवे स्टेशन से वह फरार हो गया.

इसे भी पढ़ें – शर्मसार स्वास्थ्य विभाग : कहीं बेटे का शव तो कहीं सर्पदंश की शिकार बेटी को गोद में उठाए दिखे बेबस…

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: