न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लोकसभा चुनाव में दो सीटें मुस्लिम उम्मीदवारों को मिलें: एस अली

आमया ने किया प्रदर्शन

302

Ranchi: मुस्लिम उम्मीदवारों को लोकसभा चुनाव में राज्य में दो सीटें देने की मांग के साथ शनिवार को आमया ने धरना-प्रदर्शन किया. प्रदर्शन मोरहाबादी स्थित महात्मा गांधी प्रतिमा के समीप किया गया. इस दौरान आमया के केंद्रीय अध्यक्ष एस अली ने कहा कि राजनीति दलों के उम्मीदवारों को जनता वोट देती है. उसी तरह राजनीतिक दलों को भी चाहिए की हर समुदाय के लोगों को चुनाव में शामिल करें. लोगों की भागीदारी से ही जनता के बीच राजनीतिक दल अपना विश्वास कायम कर सकते हैं. लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव में यूपीए, एनडीए दल के फार्मूले पर चल रहे हैं, जो वोट तो हमारा चाहते हैं, लेकिन प्रतिनिधित्व देना नहीं चाहते.

इसे भी पढ़ें – राज्य की पहली महिला मुख्य सचिव लक्ष्मी सिंह का निधन

दो सीटों पर मुस्लिम उम्मीदवार हो

उन्होंने ने कहा झाविमो के केन्द्रीय अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी और जेएमएम के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन झारखंड के बड़े नेता हैं. मुस्लिम समाज इन पर आंख बंद कर भरोसा करता है. चुनाव के पूर्व के परिणामों में भी यह देखा गया है कि इन नेताओं की जीत में मुस्लिमों का अधिक योगदान रहता है. ऐसे में दोनों पार्टियों को चाहिए कि मुस्लिमों को सीट देने की घोषणा करें.

इसे भी पढ़ें – पलामू: भाजपा नेता कमलेश सिंह गिरफ्तार, रिहा

स्वाथ त्यागें राजनीतिक पार्टियां

दोनों दलों की जिम्मेदारी है कि कांग्रेस और राजद के साथ स्वार्थ त्याग कर मजबूत तालमेल के साथ 14 लोकसभा सीट में से दो लोकसभा सीट गोड्डा एवं अन्य से मुस्लिम उम्मीदवार उतारें ताकि राज्य की तीसरी बड़ी आबादी मायूसी के बजाय उमंग के साथ वोट करे.

इसे भी पढ़ें – धनबादः छेड़खानी के आरोप में ओपी के मुंशी की सरेआम पिटायी

ये थे उपस्थित

मौके पर आदिवासी जनविकास परिषद के रंजीत उरांव, अमर उरांव, आजम अहमद, जियाउद्दीन अंसारी, मो फुरकान, इमरान अंसारी, रहमतुल्लाह अंसारी, एकराम हुसैन, नौशाद आलम, अफताब आलम, औरंगजेब आलम, अबरार अहमद, अनीसुर रहमान, मो जावेद अख्तर, मोदस्सिर अहरार, शाहिद अफरोज, जाहिद एकबाल सम्मी अहमद समेत अन्य लोग उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें – तेजस्विनी प्रोजेक्ट को सुदृढ़ करेगी झारखंड महिला विकास सोसाइटी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: