Crime NewsJharkhandLead NewsRanchi

दारोगा रूपा तिर्की हत्याकांड मामले में हाई कोर्ट में लगी दो हस्तक्षेप याचिका

पंकज मिश्रा की संलिप्तता और सीबीआई जांच की है मांग

Ranchi: भाजपा नेताओं ने दारोगा रूपा तिर्की हत्या मामले में गुरुवार को हस्तक्षेप याचिका दायर की. साहिबगंज महिला थाना में पदस्थापित रही रूपा की संदेहास्पद स्थिति में मृत्यु हो गयी थी. उसके परिजन और सामाजिक संगठन लगातार उसकी हत्या किये जाने का आरोप लगाने के अलावा सीबीआई जांच की मांग सरकार से कर रहे हैं. उसकी संदेहास्पद मौत मामले की जांच सीबीआई से कराये जाने को लेकर झारखंड हाई कोर्ट में जनहित याचिका पूर्व में दायर की जा चुकी है.

इसे भी पढ़ें: BIG NEWS : जानिये TET की मान्यता अब 7 साल की बजाय कितने वर्ष तक रहेगी

अब रूपा के पिता के द्वारा दायर क्रिमिनल रिट में दो हस्तक्षेप याचिकाएं दायर की गयी हैं. वरिष्ठ पत्रकार सह पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी के सलाहकार सुनील तिवारी (IA संख्या 2499/2021) ने हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. मांग की है कि रूपा तिर्की की मृत्यु की जांच सीबीआई से करायी जाए. इसके अलावा एक और याचिका दाखिल की गयी है.

पुलिस कर रही खानापूर्ति

सुनील तिवारी के अलावा भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष आरती कुजूर ने भी (IA संख्या 2455/2021) रूपा तिर्की की मौत को संदेहास्पद बताया है. अदालत से पूरे प्रकरण की सीबीआई जांच की मांग की है. याचिका में कहा है कि रूपा ने सुसाइड नहीं किया है. उसकी हत्या की गयी है. इस मामले में जांच के नाम पर पुलिस सिर्फ खानापूर्ति कर रही है. रूपा को तभी न्याय मिलेगा जब सीबीआई इस मामले की निष्पक्ष जांच करे. याचिका में कहा गया है कि रूपा तिर्की की मौत के मामले में ऐसे व्यक्ति का नाम सामने आ रहा है जो सत्ताधारी दल का एक प्रभावशाली व्यक्ति है. इस पूरे प्रकरण में पंकज मिश्रा पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं.

गौरतलब है कि इस प्रकरण में सीएम हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा के ऊपर गंभीर आरोप लगाए गए हैं. हाईकोर्ट में इससे पहले रूपा तिर्की मामले की सीबीआई जांच के लिए जनहित याचिका भी दायर की जा चुकी है. इस याचिका में रूपा तिर्की की केस की सीबीआई जांच के अलावा पंकज मिश्रा की संपत्ति की सीबीआई और ईडी से भी जांच की मांग की गयी है.

इसे भी पढ़ें:धनबाद में यास तूफान का असर, तेज हवाओं के साथ बारिश, डीसी ऑफिस परिसर में विशाल पेड़ गिरा

ठीक एक महीने पहले (3 मई) को रूपा तिर्की का शव साहेबगंज में उनके सरकारी आवास से मिला था. उसके परिवार वालों को दस बजे रात को घटना की जानकारी मिली थी. इसके बाद परिजन उसी रात वहाँ के लिए निकले थे. 4 मई की दोपहर वे रूपा के आवास पर पहुंचे थे. इसके बाद से ही वे आरोप लगा रहे हैं कि रूपा की हत्या की गयी है. इसकी सीबीआई जांच हो. पुलिस इसे आत्महत्या साबित करने में लगी है.

Related Articles

Back to top button