Crime NewsHazaribaghJharkhandTOP SLIDER

हजारीबाग सेंट्रल जेल के डिटेंशन सेंटर से दो विदेशी नागरिक फिल्मी अंदाज में फरार

बेड में आदमी का आकार बनाकर किया भ्रमित

Hazaribag: जय प्रकाश नारायण केंद्रीय कारा के डिटेंशन सेंटर से फिर म्यांमार के दो नागरिकों के फरार होने का मामला प्रकाश में आया है. नागरिकों की पहचान म्यांमार के मंगरीटोन गांव बुशीडोंग जिला अक्रोन राज्य निवासी जाहिद हुसैन पिता नुरुल हकीम व मो जावेद उर्फ मो नूर पिता आमिर हकीम है.

नागरिकों ने बेड में आदमी का आकार बनाकर सुरक्षाबलों को भ्रमित कर दिया और भाग निकले. फरार होने की सूचना मिलते ही हज़ारीबाग प्रशासन में अफरा तफरी का माहौल हो गया.

डिटेंशन सेंटर में जांच के लिए उपायुक्त आदित्य कुमार आनंद, पुलिस अधीक्षक कार्तिक एस, जेल अधीक्षक कुमार चंद्रशेखर, एसडीपीओ सदर महेश प्रजापति, जेलर व कई अधिकारी पंहुचे, जहां उन्हें भागने का कोई सुराग नही मिला.

साथ ही वायरलेस से जिला के सभी थानों को सूचना देकर उसे तलाश करने को कहा गया. वहीं बाद में डिटेंशन सेंटर में गहन जांच के बाद पता चला कि डिटेंशन सेंटर के रूम के बाहर लगे खिड़की की रॉड को तोड़कर भागने की बात कही गई है. इस संबंध में लोहसिंघना थाना में मामला दर्ज कर उसे खोजने का प्रयास किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें : निचली अदालत से पार्षद रोशनी खलखो को मिली राहत, कोर्ट ने जमानत याचिका को दी मंजूरी

डिटेंशन सेंटर की सुरक्षा

डिटेंशन सेंटर में 1 अफसर 4 बल की तैनाती की गई थी. दोपहर 12 बजे ड्यूटी में आए सिपाही ने देखा कि नागरिकों का नाश्ता व खाना रखा हुआ है. इसके बाद उसे खिड़की से आवाज़ देकर उठाया गया. वे लोग नहीं उठे. बहुत देर होने पर करीब 3 बजे सिपाही उसे देखने के लिए गया तो पाया कि बेड में आदमी का आकार बनाकर सुरक्षाबलों को भ्रमित किया गया है.

पूर्व में भी एक नागरिक फरार

बता दें कि जेल प्रशासन की लापरवाही से पूर्व में भी म्यांमार के एक नागरिक मो अब्दुल्ला 13 सितंबर 2020 को अहले सुबह फरार हो गया था. वह खिड़की की रॉड को तोड़कर फरार हो गया था.

इसे भी पढ़ें : कटौती प्रस्ताव खारिज, ग्रामीण विकास की 76 अरब 44 करोड़ की अनुदान मांग पारित

Related Articles

Back to top button