न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पीएम के निजी सचिव के भाई से ठगी करने वाले दो साइबर अपराधी गिरफ्तार, मास्‍टरमाइंड फरार

32

Ranchi: पीएम के निजी सचिव के भाई ओली मिंज के खाते से एक लाख रुपये निकालने मामले में रांची की पुलिस ने दो साइबर अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया है. गिरफ्तार साइबर अपराधियों का नाम जाकिर और  ताजूउद्दीन है. पुलिस ने इन्‍हें जामताड़ा से गिरफ्तार किया है. वहीं इस ठगी प्रकरण का मास्‍टरमाइंड मुस्ताक फरार है.

13 दिसंबर को भुक्तभोगी ओली मिंज ने डोरंडा थाना में अपने खाते से करीब 1 लाख रुपए की अवैध निकासी की शिकायत दर्ज करायी थी. इस मामले के अनुसंधान के क्रम में पता चला कि ओली मिंज के खाते से निकाले गये 1 लाख रुपये में 50 हजार रूपये वर्णपुर के नौसबा खातून के बैंक ऑफ महाराष्ट्र के खाते में ट्रांसफर किया गया. वहीं 50 हजार रूपये बर्नपुर आसनसोल के रहने वाले ताजुद्दीन के देना बैंक खाते में ट्रांसफर किया गया. जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए आसनसोल के रहने वाले तो ताजउद्दीन को गिरफ्तार कर लिया. उसने अपना अपराध कबूल कर लिया है.

एफआईआर के लिए लगाने पड़े थे कई थानों के चक्कर

आकाशबाणी के अनाउंसर तथा प्रधानमंत्री के निजी सचिव राजीव टोपनो के भाई ओली मिंज ने पहले साइबर थाना में प्राथमिकी दर्ज कराने की कोशिश की. उन्हें वहां कहा गया कि साइबर थाना में दो लाख या उससे अधिक की ठगी की प्राथमिकी दर्ज की जाती है. इसके बाद वह सुखदेवनगर थाना पहुंचे. यहां उनसे कहा गया कि आप जिस क्षेत्र में रहते हैं, उस इलाके के थाने में प्राथमिकी दर्ज करायें. फिर वह जगन्नाथपुर थाना गये. लेकिन वहां भी प्राथमिकी दर्ज नहीं की गयी. ओली मिंज डोरंडा थाना क्षेत्र के बंधु नगर, बिरसा चौक के पास रहते है़ं. आखिर में वह डोरंडा थाना गये, जहां महिला मुंशी उनके साथ बदतमीजी से पेश आयी़. मुंशी ने थाना प्रभारी रमेश कुमार सिंह से उन्हें मिलने नहीं दिया. परेशान होकर ओली मिंज ने वहां बैठे एक पुलिस अधिकारी को बताया कि मेरा भाई प्रधानमंत्री का निजी सचिव हैं, लेकिन इतनी छोटी-छोटी बात के लिए मैं उन्हें क्यों फोन करूं. इसके बाद वह डोरंडा थाना से निराश होकर अपने घर लौट आये़ थे. जिसके बाद 15 दिसंबर को डोरंडा थाना में एफआईआर दर्ज किया गया था.

महिला मुंशी पर हुई कार्रवाई

इधर डोरंडा थाना में ओली मिंज के साथ बदमीजी करने वाली महिला मुंशी पर कार्रवाई की गयी है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: