GiridihJharkhand

कर्मचारी के पैसे लेकर फरार हुए दो ठेकेदार, भुगतान 1 लाख 65 हजार का करना था दिए केवल 22 हजार

Giridih. गिरिडीह के सदर और गांडेय प्रखंड के दर्जन भर से अधिक गांवो में जलमीनार निर्माण किया गया.  के राशि से हुए दर्जन भर गांवो में पानी टंकी तो बना दी गईं लेकिन ठेकेदार पर सारे पैसे हड़पने का आरोप है.

कर्मी ने लगाया पैसे गबन का आरोप

रामगढ़ के दोनों नटवर लाल ठेकेदार नीतीश गुप्ता और सुमत उपाध्याय पर पैसे हड़पने का आरोप उनके एक कर्मी निशांत मिश्रा ने लगाया है. निशांत ने दोनों ठेकेदारों पर आरोप लगाते हुए कहा कि नीतीश गुप्ता और सुमत उपाध्याय ने उनका बकाया देने से इंकार कर दिया है. जबकि वह बेहद परेशान है.

 

Catalyst IAS
SIP abacus

इसे भी पढ़ें- लॉकडाउन की मार: 6 महीने में रांची के 60 कोचिंग संस्थान बंद, सरकार को भी हर महीने 700 करोड़ का नुकसान

Sanjeevani
MDLM

गर्भवती पत्नी और बेटी का इलाज कराने के साथ ही शहर के अरगाघाट स्थित एक मकान में वह किराये पर रहे हैं. अब पैसे नहीं होने के कारण वह किराये का भुगतान भी नहीं कर पा रहे है. दोनों ठेकेदारों के हरकतों से परेशान निशांत मिश्रा ने मामले की जानकारी सीएम और श्रमाधीक्षक देते हुए कहा कि अब सरकार और विभाग ही उनके समस्याओं का समाधान कर सकता है.

इधर सीएम और श्रमाधीक्षक को दिए आवेदन में भुक्तभोगी कर्मी निशांत ने नटवर लाल ठेकेदारों सुमत उपाध्याय और नीतीश गुप्ता पर आरोप लगाते हुए कहा कि 14वें वित्त आयोग की राशि से सदर प्रखंड के अकदोनी, फूलची, पर्वतपुर, चुंजका और गांडेय के दासडीह, जसपुर, फूलझरिया, घाटकुल, मेदनीसारे समेत कई गांवो में पानी टंकी निर्माण की योजना थी.

केवल 22 हजार का हुआ भुगतान

जिसे इन दोनों ठेकेदारों ने संयुक्त रुप से लिया था. काम पूरा करने के लिए दोनों ठेकेदारों ने प्रत्येक जलमीनार में पांच हजार के भुगतान करने की बात कही थी. साथ ही गिरिडीह में रहकर 7500 सौ रुपये हर माह अलग से देने की बात भी कहा गया था. लेकिन दोनों प्रखंड के गांवो में वह पानी टंकी बनाता गया. इस दौरान भुगतान के नाम पर कभी 500 सौ तो कभी ढाई हजार का भुगतान किया गया. कर्मी ने आरोप लगाया कि 33 योजना स्थल पर काम का भुगतान एक लाख 65 हजार करना था. लेकिन अब तक सिर्फ 22 हजार का भुगतान ही हो पाया है.

पीड़ित का नहीं उठा रहे हैं फोन

पूरा भुगतान नहीं होने से उसकी परेशानी बढ़ती जा रही है. नौ महीनें से लगातार ठेकेदार से भुगतान करने को गिडगिडा चुका है लेकिन अब दोनों ने फोन करना ही बंद कर दिया है. नए नंबरों से फोन करने पर दोनों खुद को रामगढ़ में होने की बात कहकर फोन काटते हैं.

7 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button