न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एक शव के दो दावेदार: संतोष या जुमारती, आखिर किसकी है लाश ?

डीएनए जांच से होगा खुलासा !

296

Dhanbad: धनबाद पुलिस दो दिनों से एक अजीब से झलेमे में फंस गई है. जहां एक युवक के शव पर दो परिवार दावा कर रहा है. दोनों की अपनी दलीलें हैं. एक ओर गिरिडीह का एक हिन्दू परिवार है जो मृतक को अपना बेटा संतोष बता रहा है.

इसे भी पढ़ें –जानें आखिर कैसे प्रभार में चल रहा सरकारी तंत्र

दूसरी ओर यूपी का एक मुस्लिम परिवार है, जिनके लिए ये उनके बेटे जब्बार की लाश है. फिलहाल धनबाद पुलिस फैसला नहीं ले पा रही है. ऐसे में डीएनए जांच पर अब विचार हो रहा है.

hosp3

एक शव के दो दावेदार

धनबाद के PMCH में एक दिव्यांग शख्स के शव को लेकर पिछले दो दिन से बखेड़ा चल रहा है. दरअसल, गिरिडीह जिले के गांवा के रहने वाले बुजुर्ग बाल किशन शर्मा ने अपने बेटे का शव बताकर इस पर दावा किया है. जबकि इसी शव पर उत्तर प्रदेश के गोंडा के रहने वाले जब्बार अली का भी दावा है.

इसे भी पढ़ें – धनबाद : टोटल फेल्योर एसएसपी चोथे पर मेहरबानी…क्या वजह हो सकती है

उसका कहना है कि शव उसके बेटे जुमारती का है. पुलिस पहले शव को जब्बार को सौंप भी चुकी थी. और वो इसे लेकर निकल भी चुके थे. लेकिन बाल किशन शर्मा के दावे के बाद विवाद खड़ा हो गया. और शव को ले जा रहे एंबुलेंस को हजारीबाग से वापस धनबाद बुलाया गया.

अब पुलिस निर्णय नहीं कर पा रही है कि शव किसका है. शर्मा के बेटे संतोष का या जब्बार के बेटे जुमारती का. जब्बार ने अपना पता यूपी के गोंडा जिला स्थित देहात कोतवाली के टिकरीमा गांव बताया था.

इसे भी पढ़ें – सूबे में भगवान भरोसे इलाज, 994 स्पेशलिस्ट डॉक्टर्स की जरुरत कार्यरत मात्र 45

पांच दिन पहले हुआ था हादसा

गौरतलब है कि सड़क दुर्घटना में घायल होने के बाद एक शख्स को धनबाद के पीएमसीएच में भर्ती कराया गया था. एक्सीडेंट गिरिडीह जिले के निमियांघाट थाना क्षेत्र में NH 2 पर पांच दिन पहले हुई थी. यहां इलाज के दौरान युवक की मौत हो गई थी. इसके बाद शव को लेकर विवाद जारी है.

दावेदारों की अपनी दलीलें

शव पर दावा कर रहे जब्बार का कहना है कि उसके बेटे जुमराती के पैर में कैंसर हो गया था. एक पैर काट दिया गया था. पंचनामा में ये बात सही पायी गयी थी. इसी आधार पर शव उसे सौंपा गया था.

इसे भी पढ़ें – देखिये रिम्स के जूनि. डॉ. की दबंगई ! जल्दी इलाज की बात पर कैसे परिजन को पीटकर खदेड़ा

जबकि बाल किशन का कहना हैं कि उनके बेटे संतोष का एक पैर बीमारी के कारण काटना पड़ा था. बेटे संतोष की तलाश करते हुए वोलोग डुमरी पहुंचे थे. वहां एक व्यक्ति ने तस्वीर देखकर बताया कि उनका बेटा सड़क दुर्घटना का शिकार हो गया है और उसे पीएमसीएच ले जाया गया है. इसके बाद देर शाम वे लोग पीएमसीएच पहुंचे, जहां पता चला कि उनके बेटे का शव कोई और ले गया है.

इधर मामले को लेकर SDM राज महेश्वरम के निर्देश पर रविवार को धनबाद के अंचलाधिकारी प्रकाश कुमार और डीएसपी विधि व्यवस्था मुकेश कुमार दोनों पक्षों की बातें सुनी है. लेकिन कोई निर्णय नहीं ले सके.

अब होगी DNA जांच

वहीं अंचलाधिकारी प्रकाश कुमार ने बताया कि शव जुमराती के बेटे का है या बाल किशन का इसका फैसला करने के लिए डीएनए जांच कराने का निर्णय लिया गया है. इसकी कागजी तैयारी कर ली गई है. निमियांघाट पुलिस तय करेगी कि अंतिम संस्कार कैसे करना है? क्योंकि निमियांघाट से ही घायल अवस्था में युवक आया था. वहां की पुलिस निर्णय लेगी कि किसे शव देना है या अंतिम संस्कार कैसे करना है?

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: