West Bengal

प. बंगाल में बाढ़ से ढाई लाख लोग प्रभावित हुए

Kolkata: पश्चिम बंगाल में लगातार चार दिनों से हो रही भारी बारिश की वजह से ढाई लाख से अधिक लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं.

Jharkhand Rai

राज्य आपदा प्रबंधन की ओर से मंगलवार को यह जानकारी दी गयी है. बताया गया है कि अकेले मालदा जिले में 50 हजार लोग बाढ़ से प्रभावित हैं.

इसके अलावा बांकुड़ा, पुरुलिया, अलीपुरद्वार, नदिया, बर्दवान, हुगली आदि क्षेत्रों के कुल ढाई लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं.

इसे भी पढ़ें – पश्चिम बंगाल सहित पूरे देश में एनआरसी को लागू किया जायेगा: अमित शाह

Samford

घरों में घुसा पानी

कुछ लोगों के कच्चे मकान टूट गये हैं तो कई लोगों के घरों में पानी घुसने लगा है. राज्य सरकार के आपदा प्रबंधन विभाग और जिला प्रशासन की ओर से संयुक्त रूप से लगाये गये शिविर में लोगों को स्थान्तरित किया गया है.

बताया गय कि सोमवार से लगातार हो रही बारिश की वजह से मालदा में 99.80 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड किया गया है.

इसी वजह से जिले से गुजरने वाली महानंदा नदी में जलस्तर बढ़ गया है और पानी रिहायशी क्षेत्रों में घुसने लगा है. मालदा मेडिकल कॉलेज और अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भी पानी घुस गया है.

महिला और पुरुष वार्ड में भी पानी घुसने की वजह से मरीजों को दूसरी जगह स्थान्तरित करना पड़ा है. मालदा सिंचाई विभाग के कार्यकारी अभियंता प्रणव सामंत ने मंगलवार को कहा कि क्षेत्र में बाढ़ जैसी स्थिति जरूर बन गयी है लेकिन जलस्तर अभी खतरे के निशान से ऊपर नहीं उठा है.

इसे भी पढ़ें – कोलकाता : #SardaChitFund मामले में #IPS राजीव कुमार को मिली अग्रिम जमानत

प्रशासन ने लगाये शिविर

राज्य सरकार के आपदा प्रबंधन विभाग और जिला प्रशासन ने पूरे क्षेत्र में शिविर लगाया है. बाढ़ प्रभावित लोगों को वहां रख कर उनके रहने, खाने, चिकित्सा, ठहरने आदि की व्यवस्था की गयी है.

राज्य सरकार ने पूरी स्थिति पर नजर रखी है. मौसम विभाग ने स्पष्ट किया है कि अभी 24 घंटे तक बारिश होगी जिसके बाद माना जा रहा है कि जिले में हालात और अधिक बिगड़ सकते हैं.

उल्लेखनीय है कि इस बार मानसून के दौरान सितम्बर महीने के दूसरे सप्ताह के बाद लगातार हो रही बारिश ने कई जगहों पर बाढ़ जैसे हालात बना दिये हैं.

इसे भी पढ़ें – प. बंगाल में 24 घंटे तक बारिश के आसार, षष्ठी से दशमी तक भी बारिश होने के संकेत

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: