न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

बेरमो : बीस दिनों बाद भी नहीं चालू हो सका बोकारो थर्मल का ‘ए प्लांट’

पावर प्लांट बंद होने से डीवीसी को प्रतिदिन करोड़ों रुपए का हो रहा है नुकसान

107

Bermo(Bokaro) :  बोकारो थर्मल स्थित डीवीसी के 500 मेगावाट का ए पावर प्लांट बीस दिनों के बाद भी चालू नहीं किया जा सका है. पावर प्लांट के टरबाइन स्थित बेयरिंग में 22 अक्टूवर को आयी खराबी के बाद से पावर प्लांट को बद कर दिया गया है. टरबाईन स्थित बेयरिंग में आयी खराबी के बाद उसे मरम्मत करने एवं यूनिट को चालू करने का काम पब्लिक सेक्टर की कंपनी भेल को दिया गया है. जबकि भेल ने मरम्मत का काम पावर प्लांट के टरबाइन का निर्माण कार्य करने वाली कंपनी पी ईरेक्टर्स को दिया है. भेल एवं कंपनी के द्वारा टरबाइन के बेयरिंग मरम्मत का काम जोरों से किया जा रहा है.

mi banner add

इसे भी पढ़ें- धनबाद : भाजपा नेत्री ने पार्टी के नेता पर कराया दुराचार का मामला दर्ज

मरम्मत के दौरान दो बेयरिंग पाया गया डैमेज

भेल एवं पी ईरेक्टर्स के द्वारा जब मरम्मत के लिए टरबाईन के बेयरिंग को खोला गया तो पाया गया कि आठ बेयरिंग में से दो घिसकर डैमेज हो गया है. जबकि छह ठीक पाये गये. क्षतिग्रस्त बेयरिंग को मैटेरियल भरकर ठीक करने का काम किया जा रहा है. इसके पूर्व बेयरिंग को ठीक करने के लिए सारे तेल को खाली किया गया. तेल खाली करने के दौरान ही दो फौरेन मैटेरियल (लौह कण) पाये गये. संभावना व्यक्त की जा रही है कि पावर प्लांट का निर्माण कार्य करने वाली कंपनी भेल के द्वारा जब डीवीसी को प्लांट हैंड ओवर दिया गया उस दौरान ही दो फौरेन मैटेरियल बेयरिंग के तेल में ही रह गये थे जिसके कारण एक वर्ष के बाद बियरिंग डैमेज हो गया था.

इसे भी पढ़ें- झारखंड के 1,306 ग्राम पंचायतों में अब भारत ब्राड बैंड लिमिटेड के जरिये मिलेगी इंटरनेट सेवाएं

Related Posts

BOI में घुसे चोर, कैश वोल्ट तोड़ने की कोशिश नाकाम, कुछ सिक्के ले भागे

बैंक के आमाघाटा ब्रांच की घटना, मुख्य दरवाजा तोड़कर अंदर घुसे चोर, ग्रिल भी तोड़ा

125 मेगावाट बिजली का उत्पादन

यूनिट को ब्यॉलर में टयूब लीकेज के कारण 22 अक्टूवर को बंद करने के बाद बेयरिंग की खराबी सामने आयी. इस संबंध में सूत्रों का कहना है कि पावर प्लांट को एक वर्ष तक लगातार चलाये जाने के बाद उसे मरम्मत के लिए शट डाउन देना था. परंतु प्लांट को शटडाउन नहीं दिया गया. वर्तमान में यूनिट को 27 नवंबर तक 35 दिनों के लिए शट डाउन दिया गया है. पावर प्लांट के बंद होने से डीवीसी को प्रतिदिन बिजली उत्पादन से होने वाले मुनाफे से 35 दिनों में करोड़ों रुपये का नुकसान उठाना पड़ेगा.

इस संबंध में प्रोजेक्ट हेड कमलेश कुमार का कहना था कि पावर प्लांट के टरबाइन स्थित बेयरिंग में आयी खराबी के कारण यूनिट को बंद कर मरम्मत का काम करवाया जा रहा है. दूसरी ओर बोकारो थर्मल स्थित 210 मेगावाट क्षमता वाले बी प्लांट के तीन नंबर यूनिट से शनिवार को 125 मेगावाट बिजली का उत्पादन किया जा रहा था.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: