न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

टीवीएनएल ने ठेकेदारों को लाभ पहुंचाने के लिए नहीं लिया सर्विस टैक्स

250

Ranchi: तेनुघाट विद्युत निगम लिमिटेड में विभिन्न कार्यों में लगे ठेकेदारों के भुगतान से सर्विस टैक्स की कटौती करनी थी, पर ठेकेदारों को लाभ पहुंचाने के लिए सर्विस टैक्स काटे बिना भुगतान कर दिया गया. इस बात का खुलासा एजी की रिपोर्ट में हुआ है. रिपोर्ट के मुताबिक ऑडिट की टीम ने पाया था कि ठेकेदारों को 1 जनवरी 2005 से 31 अक्तूबर 2008 की अवधि में 80.82 करोड़ का भुगतान किया गया था. जिसमें सर्विस टैक्स की राशि 2.28 करोड़ रुपये शामिल थी. जिसकी कटौती कर टैक्स विभाग को दी जानी थी, पर बिना ऐसा किये सारी राशि का भुगतान कर दिया गया. इस तरह से ठेकेदारों को अतिरिक्त लाभ पहुंचाया गया.

mi banner add

इसे भी पढ़ें – RRDA-NIGAM: कौन है अजीत, जिसके पास होती है हर टेबल से नक्शा पास कराने की चाबी

एजी की ऑडिट विभाग की जांच में एक बात और सामने आयी कि टीवीएनएल ने एक ठेकेदार के हिस्से की सर्विस टैक्स की राशि का भुगतान अपने खाते से कर दिया. टीवीएनएल के लेखा प्रमुख मिथिलेश कुमार प्रसाद द्वारा ठेकेदारों को लाभ पहुंचाते हुए सरकार के पैसे का नुकसान किया गया है. गौरतलब हो मिथिलेश प्रसाद 18 सालों से एक ही पद पर हैं. इस वजह से वे राज्य सरकार को अंधेरे में रख कर लगातार नुकसान पहुंचा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – सरकारी अफसर से मारपीट के मामले में BCCI के कार्यकारी सचिव व पूर्व IPS अमिताभ चौधरी की अग्रिम जमानत याचिका खारिज

Related Posts

RTI से मांगी झारखंड में बाल-विवाह की जानकारी, BDO ने दूसरे राज्यों की वेबसाइट देखने को कहा

मेहरमा की बीडीओ ने मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के जनजातीय विभागों के लिंक देकर लिखा, इन्हीं वेबसाइट पर मिलेगी जानकारी

इसे लेकर आम आदमी पार्टी ने टीवीएनएल के चेयरमैन को पत्र लिख कर मामले से अवगत कराया है. साथ ही अनियमितता के कई अन्य मामले को उजागर करते हुए जांच की मांग की है.

आम आदमी पार्टी ने मिथिलेश कुमार प्रसाद के गैरकानूनी कार्यों को उजागर करते हुए बताया कि उन्होंने पर्चेजिंग ऑर्डर जारी करने में वित्तीय नियमावली पर ध्यान नहीं दिया. विभागीय प्रक्रिया की अनदेखी कर मनमाने तरीके से काम किया. इसे संदेहास्पद बताया गया है. इसके अलावा निविदा संख्या 10, 11 व 12 /कोल ट्रांजेक्सन /टीवीएनएल/ रांची 8, 9 के निष्पादन में अनियमितता बरतते हुए एल वन के बजाय एल टू को वर्क ऑर्डर दे दिया. ऐसा माना जा रहा है कि उन्होंने ऊंचे दर पर वर्क ऑर्डर जारी कर सरकारी धन का नुकसान किया है.

इसे भी पढ़ें – कथित नरबलि मामला : DIG ने की जांच,  कहा- बच्चों की बलि देने के संकेत नहीं मिले

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: