JharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

रांची नगर निगम का तुगलकी फरमान, पैडल रिक्शा पर लगाई रोक

45 साल से पैडल रिक्शा के सहारे चल रहा था जीवन, अब कैसे होगा गुजारा

Ranchi: राजधानी में पहले मोटर गाड़ियों का चलन नहीं था. इसके पहले से ही यहां की सड़कों पर रिक्शा चलते हुए देखे जाते थे. एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए यह बेहतर साधनों में से एक था. वहीं किराया कम और सुरक्षित व आरामदायक होने की वजह से लोग इसमें सफर करने में हिचकिचाते भी नहीं थे. लेकिन अब रांची नगर निगम ने निगम क्षेत्र में पैडल वाले रिक्शा के परिचालन को बंद करने का निर्णय लिया है.

स्टैंडिंग कमिटी की बैठक में इसे मंजूरी मिल गई है. जिससे कि रिक्शा चलाने वालों के लिए अपना जीवन चलाना भी मुश्किल हो जाएगा.

इतना ही नहीं जिसके सहारे 45 वर्षों से वे अपना जीवनयापन कर रहे थे उसका सफर भी थम जाएगा. ऐसे में रिक्शा चलाने वालों को इस बात की चिंता सता रही है कि अब उनका गुजारा कैसे होगा.

इसे भी पढ़ें:यमन में भी युद्ध शुरू, हूती विद्रोहियों के ठिकानों पर सऊदी अरब ने की भीषण बमबारी

2-3 रुपये होता था किराया

एक टाइम था जब रांची में लोग रिक्शा से ही एक जगह से दूसरे जगह जाते थे. उस समय रिक्शा का मिनीमम किराया 2 रुपये हुआ करता था. उससे थोड़ी दूर जाने के लिए 3 से 5 रुपये लगते थे.

वहीं रांची स्टेशन से अलबर्ट एक्का चौक तक के लिए मैक्सीमम 10 रुपये देने पड़ते थे. आज पैडल रिक्शा का किराया 20 रुपये से लेकर 100 रुपये तक पहुंच गया है.

इसे भी पढ़ें:56th National Cross Country Girls U-20 एवं SAFF Cross Country Girls Team चैंपियनशिप में आशा किरण बारला को स्वर्ण

आज भी लाखों रिक्शा शहर में

रिक्शा चलाने वालों की माने तो शहर में आज भी रिक्शा का क्रेज कम नहीं हुआ है. वहीं चलाने वाले भी आजतक खुद का रिक्शा नहीं खरीद पाए है. हर दिन किराए पर लेकर वे अपना और परिवार का गुजारा कर रहे है. उनकी माने तो आज भी राजधानी में लाखों रिक्शा हैं जिसके सहारे लोगों का परिवार चल रहा है.

65 साल के रवि कच्छप बताते हैं कि वह 40 साल से अधिक समय से रिक्शा चला रहे हैं. शुरुआती दिनों में 1 रुपये प्रतिदिन रिक्शा किराया पर लेकर चलाते थे. आज एक दिन के लिए 50-60 रुपये किराया चुका रहे हैं. अब रिक्शा बंद हो जाएगा तो पता नहीं क्या होगा. गुजारा करने के लिए पैसे तो चाहिए होंगे. इसके लिए कोई दूसरा इंतजाम भी सरकार को करना चाहिए.

रवि कच्छप

 

62 साल के सोमरा ने बताया कि जब उन्होंने रिक्शा चलाना शुरू किया तो 8 रुपये किराया था. किराया देने के बाद खाने भर कमाई हो जाती थी. आज 50 रुपये में दिनभर का रिक्शा मिल जाता है.

सोमरा

उसमें जो कमाई होती है तो ठीक ठाक जीवन चल रहा है. अब इसे भी बंद करने को लेकर आदेश दिया गया है. अब जो होगा देखा जाएगा.

इसे भी पढ़ें:RTI का हाल बेहालः कार्मिक की चिट्ठी के बावजूद फर्स्ट अपील पर सुनवाई लेने में स्थानीय प्रशासन की आनाकानी

Related Articles

Back to top button