न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

इंडोनेशिया में शक्तिशाली भूकंप के बाद सुनामी, सैकड़ों लोग मारे गये, 48 की पुष्टि

इंडोनेशिया में शुक्रवार को आये 7.5 तीव्रता वाले शक्तिशाली भूकंप के बाद सुलावेसी द्वीप पर स्थित पालू शहर में सुनामी ने कहर बरपाया.

128

Jakarta : इंडोनेशिया में शुक्रवार को आये 7.5 तीव्रता वाले शक्तिशाली भूकंप के बाद सुलावेसी द्वीप पर स्थित  पालू शहर में सुनामी ने कहर बरपाया. खबरों के अनुसार भूकंप के कारण कई इमारतें जमींदोज हो गयी.  इसमें सैकड़ों लोगों के मारे जाने की खबर है.  इंडानेशिया की आपदा एजेंसी ने शनिवार को कहा कि एक इंडोनेशियाई शहर में भूकंप और सुनामी के कारण कम से कम 48 लोग मारे गये हैं. एजेंसी ने भूकंप-सुनामी की इस घटना के बाद पहली बार मृतकों का आधिकारिक आंकड़ा बताया है. आपदा एजेंसी ने कहा कि सुलावेसी द्वीप के पालू में 356 लोग जख्मी भी हुए हैं. वहां पांच-पांच फुट की लहरें उठीं और 350,000 आबादी वाले इस शहर को अपनी चपेट में ले लिया.

इस भयंकर आपदा के कारण लोग अपने घर छोड़ने को विवश हो गये हैं.  यूएस जियोलॉजिकल सर्वे (यूएसजीएस) की रिपोर्ट के अनुसार, सेंट्रल सुलावेसी शहर के डोंगगाला के पूर्वोत्तर में एक घंटे के अंदर दो बड़े भूकंप आये. 7.5 की तीव्रता वाले भूकंप से पहले 56 किलोमीटर दूर एक और भूकंप आया, जिसकी तीव्रता रिचर स्केल पर 6.1 आंकी गयी.

भूकंप के केंद्र से लगभग 80 किलोमीटर  दूर स्थित पालू शहर के एक पार्किंग रैंप की ऊपर की मंजिल से जो वीडियो शूट किया गया, उसमें ऊंची-ऊंची पानी की लहरें उठती नजर आयी. लहरों ने तटीय इलाकों को अपने आगोश में ले लिया. पानी की लहरों ने कई इमारतों को भी अपनी चपेट में ले लिया है.  एक न्यूज एजेंसी द्वारा जारी वीडियो में जबरदस्त लहरें उठती दिखाई दे रही है. लोग चिल्लाते हुए इधर-उधर भागते नजर आ रहे हैं. शहर में सुनामी और भूकंप आने की पुष्टि आपदा एजेंसी के भूकंप एवं सुनामी प्रभाग के अध्यक्ष रहमत त्रियोनो ने  की.

इसे भी पढ़ें : बीएसएफ के हेड कांस्टेबल के साथ की गयी बर्बरता का बदला, पाकिस्तानी सेना के 11 जवान मार गिराये गये

भूकंप का केंद्र 10 किलोमीटर की गहराई में था

भूकंप का केंद्र 10 किलोमीटर की गहराई में था. यह जानकारी अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण विभाग ने दी है. एजेंसी द्वारा जारी तस्वीरों में क्षतिग्रस्त इमारतें नजर आ रही हैं; फेसबुक लाइव वीडियो में  कुछ जगहों पर लंबा ट्रैफिक जाम देखा गया. बता दें कि सुनामी की चेतावनी के बाद लोग ऊंची जगहों पर पहुंचने के लिए कारों, ट्रकों एवं मोटरबाइकों  पर निकल पड़े. आपदा एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पुर्वो नुगरोहो के अनुसार तलाश एवं बचाव टीम को प्रभावित इलाकों में भेज दिया गया है.

भूगर्भशास़्त्रियों का कहना है कि इंडोनेशिया की भौगोलिक स्थिति के कारण भूकंप का खतरा हमेशा  बरकरार रहता है. बता दें कि दिसंबर 2004 में पश्चिमी इंडोनेशिया के सुमात्रा में 9.3 तीव्रता का भूकंप आया था,  उसके बाद आयी सुनामी के कारण हिंद महासागर क्षेत्र के कई देशों में 2,20,000 से ज़्यादा लोग काल के गाल में समा गये थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: