National

किसानों को मनाने की कोशिश, पीएम मोदी ने वीडियो जारी कर की अपील, दो मंत्रियों ने जो कहा, उसे जरूर सुनें…

दोनों केंद्रीय मंत्रियों ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि नये कृषि कानूनों से संबंधित मसलों का हल वार्ता से ही निकलेगा, किसान यूनियनों की इस दिशा में आगे बढ़ना चाहिए

 NewDelhi :  प्रधानमंत्री मोदी ने अपने दोनों मंत्रियों की प्रेस ब्रीफिंग का वीडियो ट्वीट करते हुए  लिखा है कि  मंत्रिमंडल के मेरे दो सहयोगी नरेंद्र सिंह तोमर जी और पीयूष गोयल जी ने नये कृषि कानूनों और किसानों की मांगों को लेकर विस्तार से बात की है… इसे जरूर सुनें. बता दें कि केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और रेलमंत्री पीयूष गोयल ने गुरुवार शाम मीडिया के सामने आकर सरकार का पक्ष रखा था.


केंद्र सरकार ने किसान नेताओं से आंदोलन का रास्ता छोड़ सरकार से बातचीत जारी रखने की अपील की है. उधर किसान यूनियनों ने नये कृषि कानून वापस न लिये जाने पर आंदोलन तेज करने की चेतावनी दी है.

इसे भी पढ़ें : अर्थशास्त्री रोबिनी ने कहा, वेतन कम होने से बढ़ रही कंपनियों की कमाई, यह खतरनाक है…

नरेंद्र सिंह तोमर , पीयूष गोयल ने किसान संगठनों से की अपील

दोनों केंद्रीय मंत्रियों ने संवाददाता सम्मेलन में गुरुवार को कहा कि नये कृषि कानूनों से संबंधित मसलों का हल वार्ता के माध्यम से ही निकलेगा और किसान यूनियनों की इस दिशा में आगे बढ़ना चाहिए. दोहराया कि किसानों की समस्याओं को लेकर बातचीत के लिए सरकार हमेशा तैयार है.

किसान संगठनों द्वारा विरोध-प्रदर्शन तेज करने की अपील के एक दिन बाद केंद्रीय मंत्रियों ने यहां प्रेसवार्ता में अपील कहा कि कोरोना महामारी का संकट है. ठंड का मौसम है, इसलिए किसान नेताओं को आंदोलन का रास्ता छोड़कर बातचीत के जरिए समाधान तलाशने की कोशिश करनी चाहिए. इस क्रम में  तोमर ने कहा कि नये कृषि कानून से संबंधित सभी मुद्दों पर सरकार ने किसान नेताओं को संशोधन प्रस्ताव भेजा है, जिन पर उन्हें विचार करना चाहिए.

इसे भी पढ़ें : एमनेस्टी इंटरनेशनल का आरोप, भारत में बैंक खातों पर रोक लगी, तो कामकाज बंद करना पड़ा

किसानों की आमदनी दोगुनी करने के लिए प्रतिबद्ध है मोदी सरकार

बता दें कि श्री तोमर ने कहा कि मोदी सरकार कृषि के क्षेत्र में निजी निवेश खेत तक पहुंचाने और खेती-किसानी को बढ़ावा देने की दिशा में काम कर रही है नया कृषि कानून  लागू होने से देश के किसानों को अपनी फसल बेचने के लिए पहले से मौजूद मंडियों के अलावा अन्य विकल्प भी मिलेंगे.  वहीं, कांट्रैक्ट फार्मिग से जुड़े कानून से किसान महंगी फसलों की खेती करने के प्रति उत्साहित होंगे, जिससे उनकी आमदनी बढ़ेगी. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देकर किसानों की आमदनी दोगुनी करने के को लेकर प्रतिबद्ध है.

इसे भी पढ़ें :   अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव 17 दिसंबर से, 55 हजार स्कूली बच्चे भगवद्गीता के श्लोकों का पाठ करेंगे

14 दिसंबर को देशभर में प्रदर्शन करेंगे किसान

केंद्र सरकार ने द्वारा सितंबर महीने में तीन नए कानून, कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) कानून 2020, कृषक (सशक्तीकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा करार कानून 2020 और आवश्यक वस्तु (संशोधन) कानून 2020 लागू किये हैं.    अध्यादेश के जरिए इन तीनों कानूनों को जून में ही लागू किया गया था.

सरकार ने कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) कानून 2020, कृषक (सशक्तीकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा करार कानून 2020 में संशोधन को लेकर किसान नेताओं के पास बुधवार को प्रस्ताव भेजा, जिसे उन्होंने ठुकरा दिया.  जान लें कि किसान नेताओं ने 12 दिसंबर को देशभर में सड़कों पर लग रहे टोल को फ्री करवाने के अलावा 14 दिसंबर को देशभर में प्रदर्शन करने की बात कही है.

 

 

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: