Lead NewsWorld

ट्रंप ने रक्षा मंत्री मार्क एस्पर को किया बर्खास्त

राष्ट्रीय आतंकवादरोधी केंद्र के निदेशक क्रिस्टोफर मिलर को कार्यवाहक रक्षा मंत्री नियुक्त

Washingaton:  अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में मिली बार के बाद डोनाल्ड ट्रंप ने चौंका देने वाले कदम उठाते हुए में रक्षा मंत्री मार्क एस्पर को बर्खास्त कर दिया है. उन्होंने तत्काल प्रभाव से राष्ट्रीय आतंकवादरोधी केंद्र के निदेशक क्रिस्टोफर मिलर को कार्यवाहक रक्षा मंत्री नियुक्त भी कर दिया है. हालांकि, उम्मीद कम है कि सीनेट नए मंत्री की नियुक्ति को मंजूरी देगी.

इसे भी पढ़ें:बिहार : बांकीपुर में भाजपा के नितिन नवीन ने शत्रुघ्न के बेटे लव सिन्हा पर बढ़त बनायी

ट्वीट के जरिये दी ट्रंप ने फैसले की जानकारी

Catalyst IAS
ram janam hospital

वहीं, रक्षा मंत्रालय के मुख्यालय पेंटागन की तरफ से नए घटनाक्रम पर अभी कोई बयान नहीं आया है. अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने अपने इस फैसले की जानकारी ट्वीट के जरिये दी. उन्होंने ट्वीट किया, ‘मार्क एस्पर को बर्खास्त कर दिया गया है.’ वैसे बताया जाता है कि एस्पर को पहले से ही यह पता था कि चुनाव के बाद उन्हें पद से हटाया जा सकता है, खासकर तब जब ट्रंप चुनाव जीत जाते.

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें:बिहार में वामपंथी दलों के दिन फिरे

अमेरिका में आमतौर पर दोबारा निर्वाचित होने के बाद राष्ट्रपति अपने मंत्रियों को हटाते हैं. पराजित होने के बाद कोई राष्ट्रपति अगली सरकार के गठन तक राष्ट्रीय सुरक्षा के नाम पर रक्षा मंत्री को नहीं हटाता है. ट्रंप ने उप रक्षा मंत्री को भी दरकिनार कर दिया है.

नस्लीय भेदभाव को भड़के असंतोष के दौरान संबंध हुए थे खराब

एक अन्य ट्वीट में ट्रंप ने कहा है कि मिलर बहुत बढ़िया काम करेंगे. दरअसल, ट्रंप और एस्पर के संबंध पिछले दिनों नस्लीय भेदभाव को भड़के असंतोष के दौरान ही खराब हो गए थे. एस्पर घरेलू मामलों को संभालने के लिए सैनिकों को तैनात करने के पक्ष में नहीं थे. जबकि ट्रंप ऐसा चाहते थे और वाशिंगटन डीसी में सेना को लगा दिया गया था.

इसे भी पढ़ें:झारखंड उपचुनावः दुमका में बीजेपी की लुईस मरांडी 3173 वोटों से आगे

चुनाव में धांधली के खिलाफ ट्रंप करेंगे रैली

उधर, सत्ता हस्तांतरण के बढ़ रहे दबाव के बीच राष्ट्रपति ट्रंप चुनाव में धांधली के खिलाफ कई रैलियां करने की योजना बना रहे हैं. ट्रंप कैंपेन के प्रवक्ता ने इसकी पुष्टि की है. हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि ट्रंप रैलियां कब से शुरू करेंगे. प्रांतों में दोबारा मतगणना का दबाव डालने के लिए भी ट्रंप ने टीमों की घोषणा की है. हालांकि प्रांतीय चुनाव अधिकारियों ने कहा है कि किसी भी प्रकार की धांधली नहीं हुई है. अब तक ट्रंप कैंपेन ने धांधली से जुड़ा कोई सुबूत पेश नहीं किया है.

इसे भी पढ़ें:आईपीएल फाइनल मुकाबला आज: मुंबई इंडियंस और दिल्ली कैपिटल्स के बीच होगी खिताबी जंग

Related Articles

Back to top button