न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कोलकाताः तृणमूल की महिला पार्षद ने भाजपा पर लगाया अपहरण का आरोप

1,272

Kolkata: लोकसभा चुनाव के बाद राज्यभर में सत्तारूढ़ तृणमूल से भारतीय जनता पार्टी में नेताओं का जाना बदस्तूर जारी है. इसी बीच उत्तर 24 परगना के बनगांव नगर पालिका में तृणमूल कांग्रेस का बोर्ड भंग करने के लिए पालिका अध्यक्ष के खिलाफ सोमवार को अविश्वास प्रस्ताव लाया जाना है.

इसके पहले तृणमूल की एक महिला पार्षद ने आरोप लगाया है कि भाजपा के पार्षदों ने उसका जबरदस्ती अपहरण कर लिया था और 20 लाख रुपये की फिरौती मांगी थी. उक्त पार्षद का नाम संपा महंतो है. वह 12 नंबर वार्ड की पार्षद हैं.

Sport House

इसे भी पढ़ेंः वर्ल्ड कप में  हार का साइड इफेक्ट : रोहित शर्मा को वनडे और टी-20 का कप्तान बनाये जाने की संभावना

20 लाख की फिरौती मांगी गयी

सोमवार को भाजपा के पार्षदों ने मिलकर नगर पालिका अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव से पहले संपा ने मीडिया से बात की है. उन्होंने दावा किया है कि 29 जून की रात उनके घर दो नंबर और सात नंबर वार्ड के पार्षद हिमाद्रि मंडल और कार्तिक मंडल गये थे. ये दोनों भी तृणमूल में थे लेकिन संपा के साथ ही भाजपा में शामिल हुए थे. उसके बाद इन दोनों ने संपा को अपनी गाड़ी में बैठाया और बातचीत करने का बहाना कर वहां से रवाना हो गये.

उसके बाद गाड़ी में कथित तौर पर उसे बंदूक दिखाकर अपहरण कर लिया. उसे लेक टाउन के जैसोर रोड के एक गुप्त ठिकाने पर ले जाकर रखा गया. उसके बाद कथित तौर पर संपा के पति को फोन कर 20 लाख रुपये की फिरौती मांगी गयी. पति ने तीन लाख रुपये भी दे दी लेकिन फिर भी उन्हें कथित तौर पर घर नहीं जाने दिया गया.

Mayfair 2-1-2020

अपहर्ताओं ने दावा किया था कि अगर इस मामले में पुलिस को जानकारी दी जाएगी तो संपा‌ की हत्या कर देंगे. बाद में 11 जुलाई को वह जैसे-तैसे फरार होने में सफल हो गयी. इसके बाद उन्होंने बनगांव थाने में लिखित शिकायत दर्ज करायी है. और न्यायालय में भी बयान रिकॉर्ड करा चुकी हैं.

इसे भी पढ़ेंः भाजपा नेता कलराज मिश्र  हिमाचल के, आचार्य देवव्रत गुजरात के राज्यपाल बनाये गये  

तृणमूल के 12 पार्षद भाजपा में शामिल हो गये थे

दरअसल बनगांव नगरपालिका में 24 पार्षद हैं. इसमें से 22 तृणमूल के थे, एक माकपा के और एक कांग्रेस के. तृणमूल के 22 पार्षदों में से 12 पार्षद भाजपा में शामिल हो गये थे. उसमें संपा महंतो भी थी. ये सारे लोग दिल्ली जाकर भाजपा का दामन थाम चुके थे लेकिन अब संपा वापस तृणमूल में चली गयी हैं. इससे नगर पालिका में तृणमूल और भाजपा पार्षदों की संख्या 11-11 हो गयी है.

अब क्या कहना है ज्योतिप्रिय का

तृणमूल के उत्तर 24 परगना जिलाध्यक्ष और राज्य के खाद्य प्रसंस्करण मंत्री ज्योतिप्रिय मल्लिक ने कहा है कि यही भाजपा की संस्कृति है. डरा, धमकाकर, गुंडागर्दी के जरिए राज्य की सत्ता पर कब्जा करना चाहते हैं जिसमें सफल नहीं होंगे. इस मामले में प्रतिक्रिया के लिए बनगांव से भाजपा सांसद शांतनु ठाकुर से बात करने की कोशिश की गयी लेकिन वह घर पर मौजूद नहीं थे. उनका नंबर भी नॉट रिचेबल था.

इसे भी पढ़ेंः पश्चिम बंगाल में सामान्य वर्ग के गरीबों को मिलेगा 10 प्रतिशत आरक्षण, अधिसूचना जारी

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like