न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

शहीद एसपी अमरजीत बलिहार और पांच पुलिसकर्मियों को पांचवीं बरसी पर दी गयी श्रद्धांजलि

533

Pakur : दुमका-पाकुड़ मार्ग पर काठीकुंड के अमतल्ला के पास हुई नक्सली वारदात में शहीद हुए पाकुड़ के तत्कालीन एसपी अमरजीत बलिहार और उनके पांच अंगरक्षक पुलिसकर्मियों की हत्या की पांचवीं बरसी पर पुलिस केंद्र में आज श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया. सभा में उपायुक्त दिलीप कुमार झा, एसपी शैलेंद्र प्रसाद बर्णवाल मुख्य रूप से मौजूद थे. इस दौरान जवानों ने शहीद एसपी बलिहार और पांच पुलिसकर्मियों को शोक सलामी दी. डीसी और एसपी ने शहीद एसपी अमरजीत बलिहार सहित पांचों जवानों की तस्वीर पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की. सभा में शहीद जवानों के परिजन भी मौजूद थे. इस दौरान एसडीपीओ अशोक कुमार सिंह, पुलिस निरीक्षक सह नगर थानेदार शिवशंकर तिवारी, रामचंद्र राम, उमेश चंद्र प्रसाद, बीके सिंह, सुकुमार टुडू, संतोष कुमार, सिद्धनाथ दुबे आदि भी मौजूद थे.

श्रद्धांजलि 

श्रद्धांजलि 

डीआईजी ने किया माल्यार्पण

श्रद्धांजलिसोमवार को शहीदों की पांचवीं बरसी पर संतालपरगना प्रक्षेत्र के डीआईजी राजकुमार लकड़ा ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की. उन्होंने समाहरणालय स्थित अमरजीत बलिहार पार्क पहुंचकर उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया. डीआईजी ने शहीदों के परिजनों से मुलाकात कर कहा कि कोई भी समस्या होने पर एसपी से संपर्क करें. उन्होंने एसपी से शहीद जवानों के परिजनों पर विशेष ध्यान रखने का निर्देश दिया. इस दौरान एसपी शैलेंद्र प्रसाद बर्णवाल, एसडीपीओ अशोक कुमार सिंह, एसडीपीओ महेशपुर, पुलिस पदाधिकारियों ने भी माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी.

इसे भी पढ़ेंः 50 हजार का इनामी नक्सली कमांडर लालमोहन गिरफ्तार, हत्या समेत 20 से ज्यादा मामलों में था वांटेड

फ्लैशबैक : स्कॉर्पियो पर नक्सलियों ने किया था हमला

दो जुलाई 2013 को तत्कालीन एसपी अमरजीत बलिहार डीआईजी की बैठक से लौट रहे थे. काठीकुंड से लगभग दो-तीन किलोमीटर आगे बढ़ने के बाद ही एक नवनिर्मित पुलिया के पास उनका वाहन (स्कॉर्पियो) पहुंचा, तभी पहले से घात लगाये नक्सलियों ने ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी थी. इस फायरिंग में चार अंगरक्षक वहीं शहीद हो गये थे. एसपी बलिहार ने नक्सलियों से घिरने के बाद भी उनका सामना करने का भरपूर प्रयास किया था, लेकिन नक्सलियों संख्या बहुत ज्यादा थी और वे अंधाधुंध फायरिंग कर रहे थे, जिस कारण एसपी बलिहार ज्यादा देर तक मुकाबला नहीं कर पाये. एसपी अमरजीत बलिहार और उनके अंगरक्षकों की हत्या करने के बाद नक्सली आठ हथियार, 670 राउंड गोली के अलावा एसपी का बुलेटप्रूफ जैकेट भी ले गये थे. नक्सली चार इंसास, दो एके-47, दो पिस्तौल अपने साथ ले गये थे. घटना के दिन बलिहार के साथ चल रहे हवलदार बबलू मुर्मू, राजीव कुमार शर्मा, संतोष कुमार मंडल और मनोज कुमार हेंब्रम के पास से इंसास और सौ-सौ चक्र गोलियां, जबकि लेगनियुश मरांडी और चंदन कुमार थापा के पास से एके-47, सौ-सौ चक्र गोलियां और दोनों की पिस्तौल लूट ली थी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Related Posts

धनबाद : जिला परिषद के निरीक्षण भवन में लगी आग, लाखों का सामान जला, 6 घंटे लगे बुझाने में

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार अगर समय पर फायर बिग्रेड की गाड़ी नहीं पहुंचती तो यह आग आसपास के इलाकों में भी फैल सकती थी.

SMILE

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: