ChaibasaJharkhand

Chaibasa: आदिवासी समाज संवैधानिक अधिकारों के प्रति जागरूक रहे : मधु कोड़ा

आदिवासियों की गौरवपूर्ण ऐतिहासिक संस्कृति रही है : गीता कोड़ा

Chaibasa : पश्‍च‍िमी सिंहभूम जिला कांग्रेस कमिटी के द्वारा मंगलवार को कांग्रेस भवन में विश्व आदिवासी दिवस मनाया गया. कांग्रेस भवन से काफी संख्या में कांग्रेसी पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा एवं सांसद गीता कोड़ा की उपस्थिति में परंपरागत रूप से गाजा- बाजा के साथ जुलूस निकाला गया. उक्त जुलूस में अधिकांश पुरुष धोती और माथे पर पगड़ी तथा महिलाएं परंपरागत लिवास में शामिल हुए. ढोल, नगाड़ा और मांदर की थाप पर नाचते गाते हुए और विश्व के आदिवासी एक हो जैसे आदिवासी समाज को जागृत करने वाले स्लोगन लिखे तख्ती हाथों में लेकर अमर शहीदों के नाम नारेबाजी करते हुए शहर का भ्रमण किया . कांग्रेसियों ने समाज के लोगों की आपसी एकता पर बल दिया. शिक्षा स्वास्थ्य एवं अपने अधिकारों के प्रति जागृत रहने हेतु एकजुटता के साथ संघर्ष करने का आवाहन किया गया.

पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा ने अपने संबोधन में कहा कि कांग्रेस आदिवासियों के हित का पोषक रही है. आंदोलन के परिणामस्वरूप और बाबा साहब अंबेडकर द्वारा निर्मित संवैधानिक अधिकार आदिवासी समाज को आरक्षण नहीं मिला रहता तो हमारी जाति विलुप्त हो जाती. ना कोई सांसद बन पाता ना विधायक फिर समाजहित का बात संसद में कैसे रखी जाती. पूर्व मुख्यमंत्री कोड़ा ने भाजपा को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि केंद्र की वर्तमान सरकार आदिवासियों का दोहन कर रही है. सिंहभूम की सांसद गीता कोड़ा ने कहा कि हम आदिवासियों की गौरवपूर्ण ऐतिहासिक संस्कृति रही है. हमें अपनी संस्कृति और सभ्यता पर गर्व है. समाज के लोगों को जागृत एवं शिक्षित होना होगा ताकि एक समग्र समाज की स्थापना की जा सके. कार्यक्रम का संचालन प्रखंड अध्यक्ष सनातन बिरुवा ने किया जबकि धन्यवाद ज्ञापन कार्यकारी जिलाध्यक्ष अम्बर राय चौधरी ने क‍िया.

कार्यक्रम में ये रहे मौजूद
मौके पर पूर्व विधायक देवेन्द्र नाथ चाम्पिया, संयोजक कुमार राजा, सह संयोजक देबु चटर्जी, मनोज कुमार सिंह, नितिमा बारी, धनश्याम गागराई, राज कुमार रजक, चंद्रशेखर दास, विश्वनाथ तामसोय, दिकु सावैयां, मोटाय सुंडी, शिवकर बोयपाई, विवेक विशाल प्रधान, लक्ष्मण हांसदा, विजय सिंह तुबिद, कैरा बिरुवा, प्रितम बांकिरा, कृष्णा सोय, बालेश्वर हेम्ब्रम, मोहन सिंह हेम्ब्रम, त्रिशानु राय, कमल लाल राम, जितेन्द्र नाथ ओझा , हरीश चन्द्र बोदरा , नूतन ज्योति सिंकु, मथुरा चाम्पिया, अविनाश कोड़ाह , मुकेश कुमार, राहुल लाल दास, मो०सलीम, तुरी सुंडी, बिरसा कुंटिया, प्रेम पुरती, विकास वर्मा, राकेश कुमार सिंह, संतोष सिन्हा, राजेन्द्र कच्छप, गुरुचरण सोय, अमन कुमार महतो, महावीर मिंज, निखिल कच्छप, सनातन हेम्ब्रम, सुनील बिरुली, प्रतिक कुमार, सुशील कुमार दास, हरिचरण सोय, प्रदीप बिरुली, लियोनार्ड बोदरा सहित काफी संख्या में कांग्रेसी उपस्थित थे.

Sanjeevani

ये भी पढ़ें- World Tribal Day: झारखंड बनने के बाद सबसे ज्यादा मुख्यमंत्री आदिवासी बने लेकिन विकास और हक नहीं ले पाने का दोषी खुद आदिवासी: जसाई मार्डी

Related Articles

Back to top button