JharkhandRanchi

शहादत दिवस पर आदिवासी संगठनों ने रन फॉर बिरसा मैराथन का आयोजन किया

Ranchi: भगवान बिरसा मुंडा की 119 शहादत दिवस के मौके पर आदिवासी संगठनों ने रविवार को रन फॉर बिरसा मैराथन का आयोजन किया. अरगोड़ा चौक से लेकर बिरसा चौक तक आयोजित मैराथन में सैकड़ों जनजातीय युवक-युवतियों ने हिस्सा लिया.

Jharkhand Rai

मैं हूं बिरसा की थीम पर आयोजित मैराथन की शुरुआत राजधानी के अरगोड़ा स्थित बुधु भगत चौक से शुरू की गयी. दौड़ से पहले वीर बुधु भगत के शिलालेख पर माल्यापर्ण किया गया.

भगवान बिरसा मुंडा के चित्र पर भी संगठनों के प्रतिनिधियों ने पुष्प अर्पित किये. इस अवसर पर बिरसा मुंडा की जन्मस्थली उलीहातू से लायी हुई पवित्र मिट्टी सभी के बीच बांटी गयी.

इसे भी पढ़ेंः मालदीव के बाद श्रीलंका पहुंचे पीएम मोदी,  ईस्टर धमाकों में मारे गये लोगों को श्रद्धांजलि दी

Samford

विजेताओं को दिया गया प्रशस्ति पत्र

आज के मैराथन दौड़ को पूर्व मंत्री गीताश्री उरांव ने झंडा दिखा कर रवाना किया. झंडा दिखानेवाले अन्य लोगों में अजय टोप्पो, अजय तिर्की, झरी लिंडा, सविता कुजूर, अजित उरांव, झरिया उरांव, निकोलस एक्का, राहुल उरांव, एल्विन लकड़ा, प्रदीप कचछप प्रमुख थे. बिरसा चौक पर मैराथन धावकों के पहुंचने के बाद पहले, दूसरे, तीसरे विजेताओं को सम्मान राशि और प्रशस्ति पत्र दिया गया.

इसे भी पढ़ेंः राज्य गठन के 18 साल बाद भी पुलिस बल की कमी से जूझ रहा झारखंड, 15 हजार पुलिस की है कमी

भगवान बिरसा के दिखाये रास्ते पर चलने का लिया संकल्प

मैराथन के बाद विभिन्न गांव एवं मौजा के पाहनों द्वारा बिरसा चौक पर आदिवासी विधि विधान से पूजा-अर्चना की गयी. युवाओं के द्वारा यह संकल्प लिया गया कि जल, जंगल, जमीन, भाषा, संस्कृति को बचाते हुए वीर बिरसा मुंडा के पद चिन्हों पर चलने की जरूरत है.

बिरसा चौक पर जनजातीय पुजारी मोगो पाहन, डिंबो पाहन, बुधवा मुंडा, हनूप गाड़ी ने पहनई व्यवस्था के तहत भगवान बिरसा मुंडा की पूजा अर्चना करायी.

इसे भी पढ़ेंः 38 हजार आंगनबाड़ी केंद्रों को चार महीने से नहीं मिला पैसा, बच्चों की खिचड़ी और दलिया पर भी आफत

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: