Corona_UpdatesJharkhandRanchi

कोरोना की रिपोर्ट के चक्कर में नहीं रुकेगा इलाज, 20 मिनट में मिलेगी रिपोर्ट

गवर्नमेंट हॉस्पिटल को 44 ट्रूनेट मशीन की संजीवनी

Ranchi : गवर्नमेंट हॉस्पिटल में इमरजेंसी में इलाज के लिए हर दिन लोग पहुंच रहे हैं. डायलिसिस से लेकर सर्जरी और डिलीवरी कराने से पहले कोरोना की रिपोर्ट मांगी जा रही है. इस चक्कर में इलाज शुरू होने में देर हो जा रही है. लेकिन अब इमरजेंसी वाले मरीजों को कोरोना का टेस्ट रिपोर्ट की वजह से इलाज में देर नहीं होगी. चूंकि सभी सरकारी हॉस्पिटल में ट्रूनेट मशीन उपलब्ध करा दी गई है.

जिससे 20 मिनट में पता चल जाएगा कि इलाज के लिए आए मरीज को कोरोना है या नहीं. बताते चलें कि गवर्नमेंट हॉस्पिटल को 44 ट्रूनेट मशीन की संजीवनी मिली है.

हेल्थ वर्कर्स को इंफेक्शन से बचाने की तैयारी

ram janam hospital
Catalyst IAS

इमरजेंसी में आने वाले गंभीर मरीजों को तत्काल इलाज करने को कहा गया है. ऐसे में कई बार गंभीर मरीज कोरोना पॉजिटिव होते हैं और उनका इलाज करने में हेल्थ वर्कर्स भी संक्रमित हो जा रहे हैं.

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

अब इलाज से पहले टेस्ट हो जाने से हेल्थ वर्कर्स को भी संक्रमित होने से बचाया जा सकेगा. रिपोर्ट आने के बाद पूरी सेफ्टी के साथ मरीज का इलाज किया जाएगा. वहीं वार्ड में इलाजरत दूसरे मरीजों को भी संक्रमण के खतरे से बचाया जा सकेगा.

इसे भी पढ़ें: झारखंड में कोरोना नाशक हवन, सामाजिक सचेतक, टीचर और नेताओं ने किया हवन

सामान्य मरीजों का भी किया जा सकेगा टेस्ट

हॉस्पिटल में 44 ट्रूनेट मशीन उपलब्ध कराए जाने के बाद गंभीर मरीजों का टेस्ट करना आसान हो जाएगा. वहीं जब हॉस्पिटल में सीरियस मरीज नहीं होंगे तो सामान्य मरीजों का भी कोरोना टेस्ट उसके माध्यम से किया जा सकेगा. जिससे कि समय की भी बचत होगी. डिस्ट्रिक्ट टीबी ऑफिसर को इसका इंचार्ज बनाया गया है.

बताते चलें कि आरटी पीसीआर टेस्ट कराने में काफी समय लग जाता है. और जब तक रिपोर्ट आती है तब तक काफी देर हो चुकी होती है. क्योंकि उसमें 48 घंटे से 72 घंटे का समय लगता है.

बाद में टीबी का किया जाएगा टेस्ट

ट्रूनेट मशीन का इस्तेमाल फिलहाल कोरोना टेस्ट के लिए किया जाएगा. लेकिन जब कोरोना के मरीज कम हो जाएंगे तो इस मशीन से टीबी के सस्पेक्टेड मरीजों का भी टेस्ट आसानी से किया जा सकेगा. चिप बेस्ड इस मशीन में कोरोना और टीबी टेस्ट के लिए अलग-अलग चिप का इस्तेमाल किया जाता है.

20 मिनट में कोरोना की टेस्ट रिपोर्ट आ जाती है, जबकि टीबी के टेस्ट में 2 घंटे का समय लगता है.

 

इसे भी पढ़ें: झारखंड में कोरोना नाशक हवन, सामाजिक सचेतक, टीचर और नेताओं ने किया हवन

Related Articles

Back to top button