HEALTHJharkhandRanchi

65 करोड़ में बनाया ट्रॉमा सेंटर, डेढ़ साल में बहाल नहीं कर पाये एक अदद डॉक्टर

  • चाहिए 125 डॉक्टर और स्टाफ, अब कांट्रैक्ट पर नियुक्ति की कवायद

Ranchi: राज्य के सबसे बड़े अस्पताल की व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए ट्रामा सेंटर का निर्माण कराया गया. ट्रामा सेंटर की स्थापना 64 करोड़ 67 लाख की लागत से की गयी. राज्य के तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दास ने 14 जुलाई को सेंटर का उद्घाटन भी कर दिया.

पर, एक साल उद्घाटन के हो जाने के बाद भी रिम्स के ट्रामा सेंटर को परमानेंट स्टाफ नहीं मिल पाया है. 125 विभिन्न पदों का सृजन भी किया गया पर अब तक बहाली नहीं की गयी. रिम्स ने 6 अक्टूबर को ट्रामा सेंटर के लिए 18 सीनियर रेजिडेंट और 25 ट्यूटर के लिये विज्ञापन जारी किया. पर यह विज्ञापन भी 3 साल तक के अनुबंध के लिए है.

इस ट्रॉमा सेंटर को शुरू करने के लिए डॉक्टरों समेत 125 कर्मचारियों की जरूरत है. इस लिहाज से ट्रॉमा सेंटर के लिए अलग से डॉक्टर, नर्स और पारामेडिकल स्टाफ की बहाली की जानी थी. पद सृजन का कार्य लगभग एक साल पहले ही पूरा हो चुका है. इस संबंध में विज्ञापन जारी किया जाना था पर एक साल होने के बाद भी नहीं हो पाया है.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ें – जानें #BabakaDhaba क्यों हो रहा है Twitter पे ट्रेंड

तीन शिफ्टों में 12-12 डॉक्टरों की तैनाती की योजना

रिम्स स्टॉफ के अनुसार विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम गठित की जायेगी. टीम में न्यूरो सर्जन, फिजीशियन, ऑर्थोपेडिक्स, सर्जन, एनेस्थीसिया सहित अन्य डॉक्टर शामिल होंगे. यहां तीन शिफ्ट में 12-12 चिकित्सकों की टीम तैनात की जायेगी.

रिम्स ट्रॉमा सेंटर को अक्टूबर 2019 में ही चालू करने की बात कही गयी थी. पर मार्च में कोरोना का पहला मरीज मिलने के बाद इसे स्टेट कोविड सेंटर में तबदील कर दिया गया. इसके कारण अब तक यह अपने मूल रुप से अस्तित्व में नहीं आ पाया है.

ट्रामा सेंटर चालू हो जाने के बाद गंभीर रूप से घायल मरीजों को तत्काल इलाज मिलना शुरू हो जायेगा. रिम्स प्रबंधन ने ट्रॉमा सेंटर को संचालित करने की तैयारी शुरू कर दी है.

इसके लिए डॉक्टरों की अनुबंध पर नियुक्ति के लिए विज्ञापन भी जारी किये गये हैं. फिलहाल रोस्टर क्लीयरेंस के पेंच के वजह से स्थायी नियुक्ति नहीं की जा सकती है. ट्रॉमा सेंटर का निर्माण कार्य लगभग एक साल पहले पूरा हो चुका है.

इसे भी पढ़ें – PNB की गिरिडीह ब्रांच के सहायक प्रबंधक और ग्राहक के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button