न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

पांच सौ एकड़ में लगे पोस्ते की खेती को टीपीसी ने किया नष्ट

38

Chatra : प्रखंड क्षेत्र के टिकदा, चुकू, सतीटांड़, नारायणपुर और कुंदा थाना क्षेत्र के मैरगड़ा, एकता, खांखर, बाड़ी पोखर, लावा सोकर के साथ साथ अन्य स्थानों के जंगलों में पांच सौ एकड़ जमीन में लगे अफीम की खेती को टीपीसी संगठन ने नष्ट कर दिया है. उक्त विषय की जानकारी देते हुए टीपीसी के जोनल प्रवक्ता पुरुषोत्तम जी ने बताया कि प्रत्येक वर्ष जिले के विभिन्न स्थानों पर भारी मात्रा में अफीम की खेती की जा रही है. पुलिस प्रशासन इसमें अंकुश लगाने में आज तक असफल रही है. प्रत्येक वर्ष एसपी एवं डीसी साहब के द्वारा अफीम को नष्ट करने एवं इस पर पाबंदी लगाने का ऐलान किया जाता है, लेकिन रिजल्ट शून्य है.

mi banner add

पुलिस भोली-भाली जनता को झूठा केस में फंसाती है

आगे पुरुषोत्तम ने बताया कि जब किसी माध्यम से पुलिस पर दबाव पड़ता है तो वह जाकर थोड़ी बहुत मात्रा में अफीम को पीट कर खानापूर्ति कर देती है. ऊंचे पदाधिकारियों तक पूर्ण रूपेण नष्ट किए जाने की रिपोर्ट भेज दी जाती है. परंतु उस स्थान पर दोबारा पुलिस देखने तक नहीं जाती कि फिर से पौधा पनपा या फला फूला क्या. हमारा टीपीसी संगठन के द्वारा ग्रामीणों से गहन पूछताछ किया गया. इस दौरान ग्रामीणों ने साफ शब्दों में कहा कि पुलिस प्रशासन, रेंजर, फॉरेस्टर के साथ साथ कई लोगों को पैसों के बदौलत खरीदकर बाहरी एजेंटों के द्वारा अफीम की खेती की जाती है. परंतु मुख्य आरोपी को ना दबोच कर पुलिस भोली-भाली जनता को झूठा केस में फंसा कर उन पर अन्याय करती है. इसके कई बड़े साबुत संगठन के पास हैं. हमने काफी दिनों तक पुलिस प्रशासन के भरोसे कार्रवाई करने का इंतजार किया, परंतु ऐसा नहीं होने पर अब टीपीसी संगठन धरातल से अफीम एवं अफीम के एजेंटों को मिटाने का अभियान शुरू कर दिया है.

Related Posts

पलामू कोषागार का सहायक पांच हजार रुपये घूस लेते एसीबी के हत्थे चढ़ा

उत्पाद विभाग से सेवानिवृत्त सिपाही के पेंशन बिल के भुगतान के लिए रुपये मांग रहा था मृत्युंजय सिंह

जनता एवं देश के हित में कार्य करें

देश के भविष्य को ड्रग्स एवं हीरोइन से कोई बर्बाद करें यह संगठन किसी भी कीमत पर नहीं होने देगा. संगठन ने ग्रामीणों को भी फटकार लगाते हुए कहा कि गेहूं, चना, मूंग,आदि फसल लगाने की बात कोई कहे तो आप सरकार को ही दोष देते हैं कि तेल महंगा है तो सिंचाई का साधन नहीं है. परंतु जब पोस्ता की खेती करने की बारी आती है तो सब व्यवस्था हो जाता है जो काफी निंदनीय बात है. संगठन ने क्षेत्र के किसानों से चना, मूंग, अरहर, दाल, मकई आदि फसलों की खेती करके आत्मनिर्भर बनने की बात कही है. साथ ही कहा है कि पुलिस प्रशासन, फॉरेस्टर, रेंजर, पुलिस एसपीओ पैसे लेकर अफीम की खेती को बढ़ावा ना दें. जनता एवं देश के हित में कार्य करें.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: