JharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

HEC कर्मियों का टूल डाउन स्ट्राइक जारी, संस्थान से निकलकर सड़क पर पहुंचा प्रदर्शन

Ranchi: हैवी इंजीनियिरंग कॉरपोरेशन लिमिटेड (एचईसी) कर्मियों का 2 दिसंबर से टूल डाउन स्ट्राइक जारी है. तीनों प्लांट के कर्मचारी गेट के अंदर प्रदर्शन करते थे. अब 23 दिसंबर को तीनों प्लांट के कर्मचारी गेट से बाहर निकल कर प्रदर्शन शुरू कर दिया है. सेक्टर तीन स्थित गोलचक्कर मैदान में तीनों प्लांट के कर्मचारी आगे के आंदोलन की रूपरेखा तय करने के लिए जुटे. दिन के करीब 11.40 बजे आम सभा का आयोजन हुआ. इस आमसभा में पहली बार कर्मचारियों का साथ देने के लिए आठ श्रमिक संगठनों के प्रतिनिधि एक साथ जुटे. पूर्व केद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय भी कर्मचारियों का साथ देने के लिए पहुंचे.

आमसभा में इन यूनियनों ने लिया हिस्सा

कर्मचारियों के आमसभा में हटिया प्रोजेक्ट वर्कर्स यूनियन हटिया मजदूर यूनियन, हटिया मजदूर लोक, एचईसी श्रमिक संघ, एचईसी लिमिटेड कर्मचारी यूनियन, जनता मजदूर यूनियन, बीएमस, हटिया कामगार यूनियन और एच.ई.सी एस एंड ई एसोसिएशन के प्रतिनिधि शामिल हुए.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ें :  सनी लियोनी के ‘मधुबन’ गाने पर भड़के यूजर्स, कहने लगे हिंदू धर्म का मजाक बनाकर रख दिया, देखें गाने का VIDEO

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

कर्मचारियों की डिमांडः सात माह के बकाये वेतन का भुगतान हो

एचईसी कर्मचारियों ने सात माह के बकाया वेतन को लेकर टूल डाउन स्ट्राइक किया है. एचईसी प्रबंधन ने साफ कर दिया है कि वह एक साथ सात माह का बकाया वेतन नहीं दे पाएगा. कंपनी की आर्थिक स्थिति बेहद नाजुक है. भारी उद्योग मंत्रालय ने अपने संसाधन से पैसे जुटाकर वेतन आदि मद में भुगतान का आदेश दिया है. एचईसी प्रबंधन ने कर्मचारियों से काम पर वापस लौटने का आग्रह किया. समझौता के लिए श्रमिक संगठनों के साथ तीन दौर की वार्ता हुई. मगर कोई रास्ता नहीं निकला. वार्ता विफल हो गया.

आमसभा का आयोजन

एचईसी प्रबंधन और श्रमिक संगठनों के बीच हुई वार्ता विफल होने के बाद कर्मचारियों ने आंदोलन की नई रूपरेखा तय करने के लिए आमसभा का आयोजन किया है. जिसमें सर्वसम्मति से आगे के आंदोलन को लेकर कर्मचारी रणनीति बनाएंगे. कर्मचारियों का कहना है कि वह भी नहीं चाहते है कि एचईसी कंपनी को नुकसान हो. वह अपना काम ईमानदारी से करते हैं. मैनेजमेंट की लचर व्यवस्था की वजह से सात माह का वेतन लंबित हो गया है. एक-एक कर्मचारी की आर्थिक स्थित खराब हो गई है. मैनेजमेंट एक साथ तीन, नहीं तो कम से कम दो माह का भी वेतन दे देता है, तो स्ट्राइक वापस लेने पर विचार किया जा सकता है.

कर्मचारियों ने कहाः वेतन भुगतान को लेकर प्रबंधन अपना स्टैंड क्लीयर करें

कर्मचारियों का कहना है कि एचईसी प्रबंधन के आला अफसर वेतन भुगतान को लेकर कर्मियों से सीधे बातचीत नहीं करना चाहते. श्रमिक संगठन बीच में नहीं है. ऐसे में श्रमिक संगठनों का प्रबंधन के साथ समझौता हो सकता है, मगर कर्मचारी इसे नहीं मानेंगे. वेतन भुगतान को लेकर प्रबंधन को अपना स्टैंड स्पष्ट करना होगा.

इसे भी पढ़ें :  झारखंड में बिजली बिल वसूली में 38 फीसदी तक की कमी, जीएम एचआर ने जूनियर इंजीनियरों से पूछा कारण

Related Articles

Back to top button