Lead NewsSportsTEENAGERS

Tokyo Olympics: मोमिजी निशिया ने रचा इतिहास, सबसे कम उम्र में जीता गोल्ड मेडल

पहली बार ओलंपिक में शामिल हुए गेम स्ट्रीट स्केटबोर्डिंग में दिखाया कमाल

New Delhi : जापान की मोमिजी निशिया ने टोक्यो ओलंपिक 2020 में इतिहास रच दिया है. 13 साल 330 दिन की उम्र में मोमिजी निशिया ने स्ट्रीट स्केटबोर्डिंग में गोल्ड मेडल जीता है. इसके साथ ही वह ओलंपिक में सबसे कम उम्र में गोल्ड मेडल जीतने वाली एथलीट बन गई हैं. बता दें कि स्ट्रीट स्केटबोर्डिंग पहली बार ओलंपिक में शामिल हुआ है.

गौरतलब है कि पहली बार में ही स्ट्रीट स्केटबोर्डिंग में कई इतिहास बन गए. दरअसल इस खेल में जापान की 13 साल 330 दिन की मोमिजी निशिया ने अपने वतन में हो रहे ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीता है.

इसे भी पढ़ें :बस संचालकों ने सीएम हेमंत से मांगी इंटर स्टेट बस परिचालन की अनुमति

Catalyst IAS
ram janam hospital

ओलंपिक की सबसे युवा मेडलिस्ट बनीं रेसा लील

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

वहीं 13 साल की ब्राजील की खिलाड़ी रेसा लील ने इस खेल में सिल्वर मेडल जीता और ओलंपिक की सबसे युवा मेडलिस्ट बन गई. मोमिजी और लील ने आखिरी मुकाबले में धूम मचा दी. दोनों ने अपने खेल के जौहर का जमकर प्रदर्शन किया. लेकिन अंत में अपने शानदार प्रदर्शन के दम पर मोमिजी ने गोल्ड मेडल पर अपना कब्जा जमाया.

इसे भी पढ़ें :Tokyo Olympics Day-4:  टेनिस में भी टूटी आशा , सीधे सेटों में हारे सुमित नागल

रोम में हुए वर्ल्ड चैंपियनशिप में जीता था सिल्वर मेडल

जापान की मोमिजी निशिया ने इसी साल रोम में आयोजित हुए वर्ल्ड चैंपियनशिप में भी सिल्वर मेडल अपने नाम किया था. अब खेल के महाकुंभ में गोल्ड जीतकर उन्होंने नया मुकाम पा लिया है. पहली बार ओलंपिक में शामिल हुए स्केटबोर्डिंग नई पीढ़ी के लिए इतना बड़ा मौका बनेगा ऐसा किसी ने नहीं सोचा था.

मोमिजी के इस जीत के बाद दुनियाभर में उनकी प्रशंसा की जा रही है. खेल जगत से जुड़े कई लोगों ने कहा कि इतनी कम उम्र में दुनियाभर के खिलाड़ियों से लोहा लेना सिर्फ जज्बा नहीं, बल्कि प्रतिभा है.

इसे भी पढ़ें :श्रीलंका से इंग्लैंड जाकर टेस्ट टीम से जुड़ेंगे सूर्यकुमार यादव और पृथ्वी शॉ, BCCI ने लगाई मुहर

16 साल की नयाकाम फूना ने जीता कांस्य पदक

टोक्यो ओलंपिक में स्केटबोर्डिंग में मेडल जीतने वाली मोमिजी और लील की उम्र महज 13 साल की है, वहीं तीसरे नंबर पर आई कांस्य पदक विजेता नयाकाम फूना की उम्र महज 16 की है. जब यह तीनों पोडियम पर अपने मेडल लेने आईं तो पूरी दुनिया यह देख कर अवाक रह गई. कई जानकार तो इस पोडियम को सबसे युवा पोडियम बात रहे है.

आपको बता दें कि इस बार स्ट्रीट स्केटबोर्डिंग के समेत चार खेलों का ओलंपिक में पदार्पण हुआ है. इसमें सर्फिंग, स्पोर्ट क्लाइमिंग और कराटे शामिल है. दरअसल इन खेलों को शामिल कर युवा दर्शकों तक पहुंचने की योजना है.

इसे भी पढ़ें :Tokyo Olympics: मीराबाई चानू को मिल सकता है GOLD , उन्हें हराने वाली का होगा डोप टेस्ट

 

Related Articles

Back to top button