Lead NewsNationalSportsWorld

Tokyo Olympics 2020 : माना पटेल बनी क्वालिफाई करने वाली पहली भारतीय महिला तैराक

21 साल की माना 100 मीटर बैकस्ट्रोक प्रतियोगिता में हिस्सा लेंगी

New Delhi : भारतीय महिला तैराक माना पटेल ने टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई कर लिया है. स्वीमिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया ने शुक्रवार को इसकी पुष्टि की. टोक्यो ओलंपिक (Tokyo2020) के लिए क्वालिफाई करने वाली वह पहली महिला और तीसरी भारतीय तैराक बन गईं है. माना को यूनिवर्सेलिटी कोटे के तहत ओलिंपिक में प्रवेश मिला है. 21 साल की माना 100 मीटर बैकस्ट्रोक प्रतियोगिता में हिस्सा लेंगी.

इसे भी पढ़ें :आरजेडी का बड़ा बयान, तेजस्वी की बातें होंगी सच, गिर जाएगी बिहार सरकार

श्रीहरि नटराज और साजन प्रकाश पहले ही कर चुके हैं क्वालिफाई

श्रीहरि नटराज और साजन प्रकाश के क्वालिफाई करने के बाद माना टोक्यो ओलिंपिक में देश की तीसरी तैराक होंगी. साजन प्रकाश ने 200 मीटर बटरफ्लाई और श्रीहरि नटराज ने 100 मीटर बैकस्ट्रोक में क्वालिफिकेशन का ‘ए’ मार्क हासिल किया था. ‘यूनिवर्सेलिटी’ कोटा एक देश के एक पुरुष और एक महिला प्रतियोगी को ओलिंपिक में भाग लेने की अनुमति देता है, बशर्ते उस लिंग से देश के किसी अन्य तैराक ने क्वालीफाई नहीं किया हो या फिना (तैराकी की वैश्विक संस्थान) की तरफ से उसे आमंत्रण न दिया गया हो.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ें :दरभंगा ब्लास्ट मामले में NIA की टीम पहुंची पटना, दोनों आतंकी को लाया गया पटना

खेल मंत्री ने दी मुबारकबाद


खेल मंत्री किरण रिजिजू ने शुक्रवार को ट्वीट कर माना को उनके टोक्यो जाने पर बधाई दी और लिखा, ‘बैकस्ट्रोक तैराक माना पटेल #Tokyo2020 के लिए क्वालिफाई करने वाली पहली महिला और तीसरी भारतीय तैराक बन गई हैं. मैं माना को बधाई देता हूं, जिन्होंने यूनिवर्सलिटी कोटा के जरिए क्वालिफाई किया. बहुत बढ़िया.’

इसे भी पढ़ें :भाजपा विधायक को जुआ खेलने और शराब रखने के मामले में पुलिस ने किया गिरफ्तार

2019 में चोट लगने के बाद इस साल माना ने की थी वापसी

माना ने ओलिंपिक्स.कॉम से कहा, ‘यह शानदार अहसास है. मैंने साथी तैराकों से ओलिंपिक के बारे में सुना है और टेलीविजन पर इन्हें देखा है, लेकिन इस बार वहां होना, दुनिया के सर्वश्रेष्ठ से प्रतिस्पर्धा करने के लिए मैं रोमांचित हूं.’ इस 21 वर्षीय तैराक के टखने में 2019 में चोट लग गयी थी और उन्होंने इस साल के शुरुआत में वापसी की थी.

इसे भी पढ़ें :जमशेदपुर के जुगसलाई इलाके में भीषण आग, लाखों की मिठाइयां और फर्नीचर जलकर खाक

उज्बेकिस्तान ओपन तैराकी में जीता था गोल्ड

उन्होंने कहा, ‘महामारी के कारण लगे लॉकडाउन से मुझे चोट से अच्छी तरह से उबरने में मदद मिली. लेकिन बाद में निराशा भी हाथ लगी. मुझे इतने लंबे समय तक पानी से दूर रहने की आदत नहीं है.’ इस साल उनकी पहली प्रतियोगिता अप्रैल में उज्बेकिस्तान ओपन तैराकी चैंपियनशिप थी जिसमें उन्होंने 100 मीटर बैकस्ट्रोक में एक मिनट 04.47 सेकेंड का समय निकालकर स्वर्ण पदक जीता था.

इसे भी पढ़ें :झाड़ी में मानव खोपड़ी मिलने से सनसनी, जांच में जुटी पुलिस

Related Articles

Back to top button