न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आज का इतिहास : धनतेरस के दिन बम धमाकों से जैसे सहम सी गई थी दिल्ली

व्यस्त बाजारों में हुए इन धमाकों में 60 लोगों की मौत हुई और 200 से ज्यादा लोग घायल हुए.

21

Delhi : देश के इतिहास में 13 बरस पहले 29 अक्टूबर को ही एक दुखद घटना दर्ज है, जब दिल्ली में दिवाली से दो दिन पहले हुए बम धमाकों से त्यौहार की खुशियों को ग्रहण लग गया था. दिल्ली में अक्टूबर में अमूमन त्यौहारों का मौसम होता है. पहले रामलीला की धूमधाम, फिर दशहरा का जोश, धनतेरस की खरीदारी, दिवाली की रौनक और फिर उसके बाद गोवर्धन पूजा और भैयादूज. एक के बाद एक आने वाले इन त्यौहारों पर बाजारों में खूब रौनक रहती है.

29 अक्टूबर 2005 को धनतेरस के दिन शहर के कई हिस्सों में बम धमाकों से दिल्ली जैसे सहम सी गई. व्यस्त बाजारों में हुए इन धमाकों में 60 लोगों की मौत हुई और 200 से ज्यादा लोग घायल हुए.

इसे भी पढ़ें : पलामू: पांकी विधायक के सतबरवा प्रतिनिधि व ग्रामीणों पर फायरिंग, बाल-बाल बचे

29 अक्टूबर को दर्ज अन्य प्रमुख घटनाएं  

1911: अमेरिकी संपादक और प्रकाशक जोसफ पुलित्‍जर का निधन.

1923: ऑटोमन साम्राज्य का अंत होने की घोषणा के साथ ही तुर्की में संसदीय लोकतंत्र मजबूत होने लगा और आज ही के दिन देश गणराज्य बना.

1929 : अमेरिकी शेयर बाजार के करीब एक करोड़ 60 लाख शेयर की बिकवाली के चलते इसे ब्लैक ट्सूजडे कहा गया और इससे ग्रेट डिप्रैशन के नाम से जाना जाने वाला संकट और गहरा गया. दरअसल पांच दिन पहले एक करोड़ 30 लाख शेयर की बिकवाली हुई थी. 1956 : इस्राइल की सेना ने सुएज नहर इलाके पर कब्जा करने के लिए सिनाई प्रांत में मिस्र पर हमला किया.

इसे भी पढ़ें : थरुर के ‘बिच्छु’ वाले बयान पर जावेड़कर का पलटवार, याद दिलाया राजीव गांधी का पुराना बयान

1975: स्पेन से जनरल फ्रैंको के 35 साल पुराने शासन का अंत युवराज जुआन कार्लोस ने अस्थायी तौर पर सत्ता संभाली.

1985 : मुक्‍केबाजी में भारत को पहला ओलंपिक पदक दिलाने वाले बॉक्‍सर विजेंद्र सिंह का जन्‍म.

1999 : पूर्वी भारत के राज्य उड़ीसा : अब ओडिशा : में भीषण समुद्री तूफान से हजारों लोग बेघर हो गए और जान माल का भारी नुकसान हुआ.

2005 : दिवाली के त्यौहार की गहमा गहमी में डूबे दिल्ली शहर के व्यस्त बाज़ारों में बम विस्फोट

2015 : चीन ने एक बच्चे की नीति को खत्म करने का ऐलान किया. अब से दंपती यदि चाहें तो दो बच्चे भी पैदा कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: