JharkhandLead NewsRanchi

राज्य के शहरी क्षेत्रों में 1 अप्रैल से बिना लाइसेंस नहीं बिकेंगे तंबाकू उत्पाद

  • किशोरों को बेचा तो सात साल तक जेल व एक लाख तक जुर्माना
  • राज्य में बिना लाइसेंस सिगरेट, बीड़ी, सिगार बेचने पर लगा प्रतिबंध
  • तंबाकू दुकानों में बिस्कुट-चिप्स नहीं बेच सकते
  • सीएम के आदेश के बाद नगर विकास विभाग ने जारी किया आदेश

Nikhil Kumar

Ranchi : राज्य सरकार ने 1 अप्रैल 2022 से राज्य के सभी शहरी स्थानीय निकायों में तंबाकू विक्रेताओं के लिए वेंडर लाइसेंसिंग की प्रक्रिया को अनिवार्य कर दिया है. यानी दुकानदार वैध लाइसेंस लेकर तंबाकू उत्पाद बेच सकेंगे. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की सहमति के बाद नगर विकास विभाग के सचिव विनय कुमार चौबे के हस्ताक्षर से आदेश जारी कर दिया गया है. यह आदेश तत्काल प्रभाव से ही लागू माना जायेगा.

लाइसेंस, अनुज्ञप्ति धारक तंबाकू विक्रेताओं को झारखंड नगरपालिका अधिनियम 2011 का सख्ती से अनुपालन करते हुए सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम 2003, खाद्य संरक्षण अधिनियम 2008 एवं बाल विकास मंत्रालय का किशोर न्याय बाल देखभाल और संरक्षण अधिनियम 2015 का उल्लंघन नहीं करना होगा.

इसे भी पढ़ें:JPSC के मुद्दे पर भाजपा-कांग्रेस में रार, कांग्रेस का हाथ भ्रष्टाचारियों के साथ : बीजेपी

इसके अलावा लाइसेंस प्राप्त इन तंबाकू उत्पाद की दुकानों पर टॉफी, कैंडी, चिप्स, बिस्कुट, पेय पदार्थ इत्यादि की बिक्री पर रोक लगा दी गयी है. बिना लाइसेंस के इन उत्पादों की बिक्री को पूरी तरह से प्रतिबंधित किया है और इसका उल्लंघन करनेवाले पर कार्रवाई की चेतावनी भी दी है.

विभाग ने यह भी स्पष्ट कहा है कि अगर 18 साल से कम उम्र के लोगों को तंबाकू उत्पाद बेचते हुए पकड़ाये तो सात साल की कैद की सजा हो सकती है. साथ ही एक लाख तक जुर्माना वसूला जायेगा.

इसे भी पढ़ें:JSSC संशोधित नियमावली: हाइकोर्ट की मौखिक टिप्पणी- हिंदी और अंग्रेजी को पेपर टू से हटाने का क्या औचित्य?

इन निकायों से अनुमति ले बेच सकते हैं उत्पाद

विभाग ने लिखा है कि यदि कोई व्यापारी, दुकानदार, व्यक्ति इस आदेश का उल्लंघन करते हुए पाया जाता है तो उसके खिलाफ झारखंड नगरपालिका अधिनियम 2011 की धारा 455 एवं 466 के अनुरूप दंडात्मक कार्रवाई की जायेगी.

सभी तरह के तंबाकू या तंबाकू उत्पाद बेचनेवाले व्यापारी, दुकानदार अपने क्षेत्र अंतर्गत नगर निगम, नगर परिषद, नगर पंचायत, अधिसूचित क्षेत्र समिति से लाइसेंस, अनुज्ञप्ति अथवा अनुमति प्राप्त कर केवल तंबाकू या तम्बाकू उत्पाद की बिक्री कर सकता है.

इसे भी पढ़ें:झारखंड : कोरोना काल में जान गंवाने वालों के लिये प्रदेश कांग्रेस ने केंद्र से मांगा 4 लाख का मुआवजा

एक्ट का उल्लंघन कर हो धड़ल्ले से बिक रहे तंबाकू उत्पाद

झारखंड नगरपालिका अधिनियम 2011 की धारा 455 के अनुसूचि 13 एवं 187 के अनुसार बिना लाइसेंस, अनुज्ञप्ति अथवा बिना अनुमति के स्वास्थ्य के लिए खतरनाक किसी भी तरह के तंबाकू उत्पाद एवं इसके हानिकारक प्रवृति के मद्देनजर किसी भी परिसर में सभी तरह के तम्बाकू उत्पाद (सिगार, सिगरेट, बीडी,नसवार) सहित का विपणन, भंडारण, पैकिंग, प्रसंस्कण, सफाई, विनिर्मिाण (किसी भी विधि द्वारा) नहीं किया जा सकता है.

लेकिन सरकार के संज्ञान में यह बात सामने आ रही थी कि राज्य में धड़ल्ले से तम्बाकू उत्पादों की बिक्री बिना लाइसेंस, अनुज्ञप्ति अथवा अनुमति के ही की जा रही है जो झारखंड नगरपालिका एक्ट का उल्लंघन है.

इसे भी पढ़ें:18 दिसंबर को झामुमो का केंद्रीय अधिवेशन: तैयारियों को अंतिम रूप देने में लगी पार्टी

90 फीसदी ओरल कैंसर तंबाकू के सेवन के कारण

विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के अनुसार भारत में प्रतिवर्ष लगभग 10-12 लाख लोगों की मौत तम्बाकू जनित रोगों जैसे कैंसर, स्ट्रोक तथा ह्दय रोग आदि से होती है. झारखंड में 50.1 प्रतिशत लोग 63.6 प्रतिशत पुरुष तथा 35.9 प्रतिशत महिलाएं किसी न किसी रूप में तंबाकू का इस्तेमाल करती हैं. धूम्रपान एवं तंबाकू सेवन से मानव स्वास्थ्य पर विपरित प्रभाव पड़ता है, जो कैंसर अथवा अन्य बीमारियों का कारक है.

90 प्रतिशत ओरल कैंस तंबाकू के सेवन से हो रहा है. ऐसे में भारत सरकार ने तंबाकू को नियंत्रित करने और इसके विपरित प्रभाव से बचने के लिए तंबाकू उत्पाद( विज्ञापन का प्रतिबंध और व्यापार तथा वाणिज्य उत्पादन और वितरण का विनियमन ) अधिनियम 2003 लागू किया है.

इसका उदेश्य अव्यवस्कों, युवाओं और जनसामान्य द्वारा तंबाकू उत्पाद के उपयोग को रोकने, हानिकारक लत से बचाना तथा तंबाकू उत्पादों के प्रचार-प्रसार पर प्रतिबंध लगाना है.

भारत सरकार ने इन उत्पादों का विक्रय करने के लिए लाइसेंस लेने की प्रक्रिया को अपनाने का सुझाव दिया था, इसी आलोक में राज्य सरकार भी कार्रवाई कर रही है.

इसे भी पढ़ें:15 दिसंबर से नहीं शुरू होंगी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें, कोरोना के नये वेरिएंट को लेकर अलर्ट

Advt

Related Articles

Back to top button