National

मोदी को रोकने की कवायद, सोनिया ने विपक्षी दलों के नेताओं को फोन किया, 22-24 मई को दिल्ली बुलाया

NewDelhi : सोनिया गांधी ने विपक्षी दलों के प्रमुख नेताओं को फोन कर 22, 23, 24 मई को दिल्ली में रहने का आग्रह किया है. राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि नतीजो से पहले  सोनिया गांधी विपक्ष के नेताओं की बैठक के लिए खुद अपने कंधों पर जिम्मेदारी लेते हुए कवायद तेज कर दी है.  इसका मतलब  लोकसभा चुनाव 2019 के सातवें चरण की वोटिंग से पहले यूपीए अध्यक्ष सोनिय गांधी विपक्षी दलों को एकजुट करने में जुट गयी हैं. दरअसल जब कांग्रेस विपक्षी दलों की बैठक बुलाती है.

Jharkhand Rai

ऐसे में यह साफ संदेश देने की कोशिश रहेगी कि भले ही हम सब प्री-पोल गठजोड़ का हिस्सा ना हों लेकिन हम सब मोदी के खिलाफ लड़े और एकजुट हैं. एक संदेश यह भी देने की होगी कि हमारे गठबंधन को ध्यान में रखा जाये और किसी एक दल की बजाय गठबंधन को ही सरकार बनाने का न्यौता मिलना चाहिए.

लोकसभा चुनाव अभी पूरा भी नहीं हुआ कि बीच में ही गठबंधन की पहल विपक्ष दल के नेताओं ने शुरू कर दी है. सरकार बनाने को लेकर राजनीतिक पार्टियों ने कमर कसनी शुरू कर दी है. सिर्फ राष्ट्रीय लोकतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) और संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) ही नहीं, बल्कि थर्ड फ्रंट की भी कवायद शुरू हो गयी है.

इसे भी पढ़ें – सीनियर कैप्टन का महिला पायलट से सवाल: क्या तुम्हें हर दिन सेक्स की जरूरत नहीं पड़ती?

Samford

किसी दल या गठबंधन को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला ताेे..

लोकसभा चुनाव के नतीजे 23 मई की आयेंगे. ऐसे में अगर इस चुनाव में किसी दल या गठबंधन को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला, तो देश का सियासी समीकरण पूरब से पश्चिम और उत्तर से दक्षिण तक बदल जायेगा. इसीलिए कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूपीए की अध्यक्ष सोनिया गांधी पूरी तरह से सक्रिय हो गयी हैं.

पिछले दिनों आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की थी. इस दौरान दिल्ली में विपक्षी दलों को 21 मई को बैठक करने की योजना बनाई है.

सोनिया गांधी से पहले तेलंगाना के सीएम केसीआर लोकसभा चुनाव की सियासी नब्ज को समझते हुए गठबंधन की कवायद शुरू कर दी है. इस कड़ी में उन्होंने केरल के मुख्यमंत्री और माकपा नेता पिनरई विजयन से मुलाकात कर राजनीतिक हालात पर चर्चा की.

ऐसे ही तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू भी  गठबंधन का जाल बुनने में जुट गये हैं.नायडू ने पिछले दिनों कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की थी. नायडू ने राहुल के साथ सातों चरण के चुनाव निपटते ही और नतीजे से पहले 21 मई को विपक्षी दलों की बैठक बुलाने की योजना पर चर्चा की थी.

इसे भी पढ़ें – भाजपा कार्यकर्ता प्रियंका को तुरंत रिहा क्यों न किया, ममता सरकार को SC की फटकार

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: