National

#Lockdown में आपको परेशानी से बचाने के लिए Google Maps में आया नया फीचर, जानें कैसे मिलेगी मदद

New Delhi: कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देश में लॉकडाउन है. लॉकडाउन के कारण लोगों को कई तरह की परेशानी भी हो रही है. लेकिन गूगल मैप्स ने आपक परेशानियों को कम करने की कोशिश की है. और लोगों की मदद के लिए एक नए फीचर को जोड़ा गया है.

यह फीचर उन लोगों की मदद के लिए जोड़ा गया है जिन्हें कोरोना वायरस लॉकडाउन के वजह से खाने और रहने की दिक्कत हो रही है.

अफवाहबाज पत्रकारिता, फर्जी खबरों से परेशान हैं, पढ़ें, newswing.com  जुड़े हमारे  Telegram  चैनल  से.

ram janam hospital
Catalyst IAS

फूड शेल्टर और नाइट शेल्टर की मिलेगी जानकारी

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

गूगल मैप्स ने अपने नये फीचर में फूड शेल्टर और नाइट शेल्टर को लिस्ट किया है. मैप्स पर अब भारत के 30 शहरों के पब्लिक फूड शेल्टर और नाइट शेल्टर को लिस्ट किया गया है.

बता दें कि पहले गूगल मैप्स केवल दिल्ली में फूड शेल्टर की लोकेशन को दिखाया करता था लेकिन अब यह 30 अन्य शहरों की भी जानकारी देगा.

दरअसल, कई राज्य की सरकारों ने फूड और नाइट शेल्टर की घोषणा की है और अब गूगल मैप्स के जरिये ऐसे लोगों इसका लाभ उठा सकेंगे जिन्हें देशभर में लॉकडाउन के दौरान रहने और खाने की दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ेंः#Corona पॉजिटिव का आंकड़ा देश में 5000 के पार, #Lockdown बढ़ाने पर विचार कर रही केंद्र सरकार

कैसे काम करेगा ये फीचर

इसके इस्तेमाल के लिए आपको केवल इतना करना है कि इनमें से किसी पर भी जाकर केवल फूड शेल्टर इन शहर का नाम या नाइट शेल्टर इन आगे शहर का नाम लिखकर सर्च करना है.

गूगल मैप्स के नये फीचर का इस्तेमाल स्मार्टफोन और KaiOS सपोर्ट करने वाले डिवाइस पर किया जा सकता है. बता दें कि KaiOS कुछ फोन जैसे कि JioPhone, JioPhone 2 और कुछ Nokia डिवाइस भी इस वर्जन पर चलता हैं.

दरअसल, लॉकडाउन के कारण रहने और खाने की दिक्कत का सामने कर रहे ज्यादातर लोगों के पास स्मार्टफोन ना हो तो ऐसे में ये लोग इन सेवा का लाभ कैसे उठा पाएंगे इसी बात को ध्यान में रखते हुए इस फीचर को फीचर फोन के लिए भी जारी किया गया है.

 फूड और नाइट शेल्टर वाला इस फीचर का गूगल मैप्स में फिलहाल सपोर्ट अंग्रेजी भाषा में ही मिलेगा, लेकिन कंपनी का कहना है कि यह फीचर जल्द हिंदी भाषा में भी उपलब्ध होगा.

इसे भी पढ़ेंः#WHO की फंडिंग रोकेगा अमेरिका, राष्ट्रपति ट्रंप बोले- चीन पर है ज्यादा ध्यान

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button