न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड स्थापना दिवस और भगवान बिरसा मुंडा की जयंती पर विघ्न उत्पन्न करना अशोभनीय और निंदनीयः भाजपा

55

Ranchi: भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस को सम्बोधित करते हुए आरोप लगाया कि झारखंड मुक्ति मोर्चा और कांग्रेस की शह पर पारा शिक्षकों के एक छोटे समूह के द्वारा गुरुवार को मोराबादी मैदान में मुख्य समारोह में व्यवधान पैदा करने की कोशिश की गयी. श्री शाहदेव ने कहा कि कांग्रेस ने कल ही प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा था कि वह पारा शिक्षकों के मुद्दे पर सड़क पर उतरेंगे. झारखंड मुक्ति मोर्चा भी हमेशा से इस मुद्दे पर आर-पार की लड़ाई की बात करता रहा है. भाजपा को पुख्ता सूचना मिली है कि इन दोनों दलों के नेताओं की शह पर और समर्थन दिए जाने के कारण पारा शिक्षकों के एक गुट ने अराजकता पैदा करने की कोशिश की. श्री शाहदेव ने कहा कि राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर ऐसे असामाजिक तत्वों का समर्थन करने के लिए कांग्रेस और झारखंड मुक्ति मोर्चा को जनता से सार्वजनिक माफी मांगी चाहिए.

इसे भी पढ़ें – हड़ताल पर जायेंगे राज्य भर के पारा शिक्षक

पत्थरबाजी करनेवाले असामाजिक तत्व

प्रतुल शाहदेव ने कहा कि सर्व शिक्षा अभियान की शुरुआत अटल बिहारी वाजपेयी ने की थी. और समय-समय पर सरकार ने पारा शिक्षकों के लिए मातृत्व अवकाश, रिटायरमेंट उम्र 60 वर्ष करने एवं आकस्मिक अवकाश देने और नियुक्ति में 50% आरक्षण का प्रावधान भी किया. भाजपा यह मानती है कि शिक्षक पत्थरबाजी नहीं कर सकते और जिन्होंने पत्थरबाजी की है वह असामाजिक तत्व ही हो सकते हैं. मुख्य सचिव की अध्यक्षता में बनी कमेटी पारा शिक्षकों की मांग पर गंभीरता से विचार कर रही थी. ऐसे समय में कांग्रेस और झामुमो के चढ़ाने पर ऐसा आंदोलन करने का कोई औचित्य नहीं था. भगवान बिरसा मुंडा के नाम पर राजनीति करनेवाले कांग्रेस और झामुमो ने उनकी जयंती पर ऐसे असामाजिक तत्वों को शह देकर अपनी असलियत दिखा दी है. श्री शाहदेव ने सरकार से मांग की कि वह पारा शिक्षकों के नाम पर नेतागिरी करने वाले असामाजिक तत्वों की जांच करें और उन पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई हो. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार पहले से ही पारा शिक्षकों को नियम के अनुसार मदद करने को तैयार थी लेकिन राजनीतिक दलों ने इस पूरे मुद्दे का राजनीतिकरण कर राज्य को अशांत करने की साजिश की है. श्री शाहदेव ने इस बात पर खेद प्रकट किया कि कुछ मीडियाकर्मियों को इस झड़प में चोट लग गई. उन्होंने राज्य सरकार से मांग की कि मीडियाकर्मियों के साथ हुए दुर्व्यवहार की जांच हो और दोषियों पर कार्यवाही हो.

इसे भी पढ़ें – बालिग हुआ झारखंड, स्थापना दिवस पर सरकार को करनी पड़ी स्टन गन से फायरिंग, पत्रकारों को भी पीटा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: