Ranchi

मार्च 2019 तक एसटीपी और मेन ट्रंक लाइन निर्माण पूरा करे कंपनी, नहीं तो ब्लैक लिस्ट किया जायेगा: सीपी सिंह

Ranchi: राजधानी में सीवरेज-ड्रेनेज की स्थिति को लेकर नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने एक बाऱ फिर ज्योति बिल्डटेक प्राइवेट लिमिटेड को फटकार लगायी है. उऩ्होंने कंपनी को मार्च 2019 तक एसटीपी और मेन ट्रंक लाइन निर्माण करने का निर्देश दिया है. ऐसा नहीं होने पर कंपनी को टर्मिनेट कर दिया जायेगा. मंत्री सीपी सिंह ने गुरुवार को प्रोजेक्ट भवन में आयोजित बैठक में कहा कि अपनी कार्यशैली से कंपनी जनता और सरकार के साथ न्याय नहीं कर रही है. सीवरेज-ड्रेनेज की खराब होती स्थिति से लोगों की समस्या कम होने की जगह बढ़ती जा रही है. ऐसे में जरूरी है कि मार्च 2019 तक एसटीपी और मेन ट्रंक लाइन का निर्माण पूरा किया जाये. बैठक में सचिव अजय कुमार सिंह, स्टेट अर्बन डेवलपमेंट एजेंसी के निदेशक अमित कुमार, नगर आयुक्त मनोज कुमार, सहित ज्योति बिल्डेटक और एस्सेल इंफ्रा के अधिकारी शामिल थे. इस दौरान सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट कार्य पूरा नहीं हो पाने पर भी मंत्री सीपी सिंह नाराज दिखे.

शत-प्रतिशत रीस्टोरेशन नहीं होने से नाराज हुए मंत्री सीपी सिंह

कंपनी की कार्यशैली से नाराज विभागीय मंत्री ने सवाल किया कि जिन जगहों पर पाइप लाइन बिछाने को लेकर सड़कों को काट दिया गया है, उसका रीस्टोरेशन अबतक क्यों नहीं किया जा सका है. उन्होंने कहा कि पहले की बैठक में शत-प्रतिशत रीस्टोरेशन सुनिश्चित करने का निर्णय लिया गया था, लेकिन स्थिति जस की तस बनी हुई है. नगर आयुक्त मनोज कुमार ने कहा कि मेन ट्रंक लाइन और एसटीपी में जमीन का कोई इश्यू नहीं है. ऐसे में कंपनी ज्योति बिल्डेटक मार्च तक काम पूरा करे. उन्होंने कहा कि अगर जमीन को लेकर एक-दो जगहों पर कोई समस्या आयी भी, तो नगर निगम उसका त्वरित गति से निष्पादन करेगा.

सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट पर एस्सेल इंफ्रा को मिला अल्टीमेटम

Sanjeevani

इस दौरान सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट निर्माण कार्य की समीक्षा की गयी. निर्माण कार्य से जुड़े एस्सेल इंफ्रा की कार्यशैली से नाराज विभाग ने एक बाऱ फिर कंपनी को अल्टीमेटम देते हुए कहा गया कि कंपनी जिन वार्डों में काम कर रही है, वहां की व्यवस्था सुधारे.

बैठक में लिये गये निर्णय

  • सीवरेज-ड्रेनेज निर्माण में लगी कंपनी ज्योति बिल्डटेक आगामी मार्च 2019 तक एसटीपी और मेन ट्रंक लाइन का काम पूरा करेगी. साथ ही जहां पर गैप है उसको पूरा कर सीवरेज लाइन को चालू करे.
  • समय पर यह दोनों काम पूरा नहीं हुआ तो कंपनी को ब्लैक लिस्टेड के साथ साथ टर्मिनेट भी किया जाएगा.
  • कार्य पूरा करने के लिए तुरंत दो विशेषज्ञ पदाधिकारियों की नियुक्ति करनी होगी.
  • कार्य में लगे मजदूरों को मार्च 2019 तक कंपनी नहीं बदलेगी.
  • जिन जगहों पर जमीन की समस्या आएगी, वहां रीरूट का काम किया जाएगा. साथ ही जहां ट्रेंचलेस लाइन संभव नहीं हैं, वहां ओपन लाइन बिछाने की अनुमति दी जाएगी.
  • विभाग की ओर से काम को जल्दी निष्पादित करने के लिए सैंड फीलिंग की भी अनुमति दी जाएगी.
  • काम को पूरा करने के लिए फरवरी माह तक नगर निगम 10 जूनियर इंजीनियर की टीम उपलब्ध कराएगा.

इसे भी पढ़ें – रांची स्मार्ट सिटी के लिए अंतिम डीड ऑफ कन्वेंस साइन, एचईसी ने किया 656 एकड़ जमीन सरकार को हस्तांतरित

Related Articles

Back to top button