न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

TISS की रिपोर्ट में मुजफ्फरपुर सहित 17 बाल गृहों की स्थिति पर जतायी गयी चिंता

307

Patna : बिहार के समाज कल्याण विभाग ने मुंबई के टाटा इंस्टीट्यूट आफ सोशल साइंस (टीआईएसएस) द्वारा सौंपी गयी उस सामाजिक अंकेक्षण रिपोर्ट को गुरुवार को सार्वजनिक कर दिया जिसके आधार पर मुजफ्फरपुर बालिका गृह में 34 लड़कियों के यौन शोषण का मामला प्रकाश में आया. रिपोर्ट में इन बाल गृहों की स्थिति पर तुरंत ध्यान देने की जरूरत पर बल दिया गया है.

इसे भी पढ़ें- अंतिम सफर पर अटल बिहारी वाजपेयी, दिन के एक बजे तक बीजेपी मुख्यालय में अंतिम दर्शन

बाल गृहों की स्थिति को गंभीर चिंता का विषय बताया

समाज कल्याण विभाग ने यह रिपोर्ट वेबसाइट पर प्रकाशित किया है. गत 27 अप्रैल को सौंपी गयी चार खंडों की इस रिपोर्ट में मुजफ्फरपुर जिला में स्वयंसेवी संगठन सेवा संकल्प एवं विकास समिति द्वारा संचालित बालिका गृह के साथ ही प्रदेश में संचालित कुल 17 अल्पावास गृह, आश्रय गृह एवं बाल गृहों की स्थिति को गंभीर चिंता का विषय बताया गया है. रिपोर्ट में मुजफ्फरपुर बालिका गृह के साथ ही मोतिहारी में ‘निर्देश’ द्वारा संचालित बाल गृह, भागलपुर में ‘रूपम प्रगति समाज समिति’ द्वारा संचालित बाल गृह, मुंगेर में ‘पनाह’ द्वारा संचालित बाल गृह, गया में ‘डोर्ड’ द्वारा संचालित बाल गृह, अररिया में सरकार द्वारा संचालित बाल संप्रेक्षण गृह, पटना में इकार्ड द्वारा संचालित अल्पावास गृह, मोतिहारी में ‘सखी’ द्वारा संचालित अल्पावास गृह का भी नाम लिया गया है.

इसे भी पढ़ें- बढ़ानी है सरकार को स्थापना दिवस की शोभा, इसलिए छात्रों को तीन माह तक नहीं मिलेंगे 21 हजार शिक्षक

इन बाल गृहों का भी किया गया जिक्र

इसके अलावा मुंगेर में ‘नोवेल्टी वेल्फेयर सोसाईटी’ द्वारा संचालित अल्पावास गृह, मधेपुरा में ‘महिला चेतना विकास मंडल द्वारा संचालित अल्पावास गृह, कैमूर में ‘ग्राम सेवा स्वराज संस्था’ द्वारा संचालित अल्पावास गृह, मुजफ्फरपुर में ओम साई फाउंडेशन द्वारा संचालित सेवा कुटीर , गया में ‘मेटा बुद्धा ट्रस्ट’ द्वारा संचालित सेवा कुटीर और पटना में डानबोस्को टेक सोसाईटी द्वारा संचालित कौशल कुटीर तथा तीन एडोपशन एजेंसी पटना के नारी गुंजन, मधुबनी के रवेस्क और कैमूर के ज्ञान भारती का भी जिक्र किया गया है. रिपोर्ट में कहा गया है कि इन स्थानों पर तत्काल ध्यान देने की आवश्यकता है.

इसे भी पढ़ें- 2012 से 2017 तक झारखंड के 218 NGO का FCRA लाइसेंस रद्द कर चुका है गृह मंत्रालय

इसे भी पढ़ें- अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर झारखंड में सात दिनों का राजकीय शोक, शुक्रवार को अवकाश

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: