न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू टाइगर रिजर्व में तीन वर्ष बाद दिखा बाघ, दो तस्वीरें ट्रैकिंग कैमरे में हुईं कैद

245

Medininagar: करीब तीन वर्ष के लंबे समय बाद पलामू टाइगर रिजर्व में बाघ दिखा है. पीटीआर के छिपादोहर पूर्वी वन क्षेत्र में 17 फरवरी की शाम 6.25 बजे ट्रैकिंग कैमरे में दो बार बाघ नजर आया है. सोमवार को बाघ झाड़ियों से गुजर रहा था, इसी दौरान उसकी दो तस्वीरें कैमरे में कैद हो गयीं. हालांकि वन विभाग के अधिकारी बाघ के देखे जाने के मामले में कुछ भी बताने को तैयार नहीं हैं.

तीन महीने पहले गिनती के दौरान नहीं दिखा था टाइगर

तीन महीने पहले 2018 में पलामू टाइगर प्रोजेक्ट के इलाके में बाघों की गिनती हुई थी. इस दौरान 500 से अधिक ट्रैकिंग कैमरे लगाए गए थे. लेकिन बाघ का कहीं अता-पता नहीं था. लेकिन अचानक बाघ के दिख जाने के बाद वन विभाग के अधिकारी असमंजस की स्थिति में पड़ गए हैं.

फोटो खंगालने में जुटा वन विभाग 

कैमरे में बाघ दिखने के बाद वन विभाग के अधिकारी बाघ की मौजूदगी के पुख्ता साक्ष्य जुटाने में लग गये हैं. फोटो में कैद बाघ के मुंह, पांव सहित अन्य हिस्सों को खंगाला जा रहा है, ताकि उसका जेंडर तय हो सके. बाघ के पग मार्क मिलने के बाद उसके स्कैट ढूंढ़ने की कोशिश की जा रही है. 2016 के बाद से कैमरे में बाघ नजर नहीं आया था, हालांकि बाघों की गिनती संबंधी आंकड़ा मई 2019 में जारी किया जाना है. पलामू टाइगर प्रोजेक्ट को करीब 47 वर्ष पहले शुरू किया गया था. इस दौरान करीब 22 बाघ बेतला नेशनल पार्क के इलाके में थे.

1995 में 71 बाघ थे

1995 में बेतला नेशनल पार्क में बाघों की संख्या 71 पाई गई थी. लेकिन 2010 की गणना में 10 बाघ ही मिले थे. बेतला में बाघ नजर आने से पर्यटकों की संख्या बढ़ने की उम्मीद है. बेतला में बाघ होने पर संशय के कारण पर्यटकों की संख्या में लगातार कमी हो रही थी. एक बार फिर बाघ दिखने के बाद पर्यटकों की संख्या बढ़ने की संभावना है.

इसे भी पढ़ें – झारखंड में शुरू होनेवाली है सोने की पांचवीं खान, सात अन्य खानों पर चल रहा जांच का काम

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: