न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आंधी-पानी के साथ बत्ती गुल, 336 मेगावाट बिजली सरेंडर, तीन घंटे बिजली आपूर्ति बाधित रही

सुबह बिजली की मांग थी 1117 मेगावाट, अपराह्न तीन बजे के घटकर हो गयी 751 मेगावाट

46

Ranchi :  आंधी-पानी के साथ झारखंड की बिजली व्यवस्था पटरी से उतर जाती है.  मंगलवार को अपराह्न तीन बजे के बाद राजधानी सहित अन्य जिलों में आये आंधी-पानी के कारण लगभग तीन घंटे तक बिजली आपूर्ति चरमरा गयी.  आंधी-पानी शुरू होने के साथ  बिजली काट दी गयी.  स्थिति यह थी कि सुबह नौ बजे से अपराह्न तीन बजे तक प्रदेश में बिजली की मांग 1117 मेगावाट थी. इतनी बिजली उपलब्घ भी थी;  लेकिन अपराह्न तीन बजे के बाद कई जिलों में बिजली आपूर्ति बाधित होने के बाद बिजली की मांग घटकर 751 मेगावाट हो गयी. 336 मेगावाट बिजली सरेंडर करनी पड़ी.

इसे भी पढ़ेंः महागठबंधन जनता को ठगनेवाली मोदी व रघुवर सरकार से सचेत करने में जुटा हैः हेमंत सोरेन

अपराह्न तीन बजे के बाद सेंट्रल एलोकेशन भी घटा

अपराह्न तीन बजे के बाद सेंट्रल सेक्टर से मिलने वाली बिजली भी कम हो गयी. कुल 324 मेगावाट बिजली की आपूर्ति हो रही थी.  जबकि अपराह्न तीन बजे से पहले सेंट्रल सेक्टर से 539 मेगावाट बिजली मिल रही थी.  इसकी वजह रही कि वितरण सिस्टम प्रदेश में दुरुस्त नहीं हो पाया था. इस कारण बिजली की आपूर्ति शुरू नहीं हो पायी.

इसे भी पढ़ेंः चैंबर ने किया मतदाता जागरुकता वाहनों को रवाना, डीसी ने दिखाई हरी झंडी

राजधानी के अधिकांश इलाकों में आपूर्ति बाधित

मंगलवार को आये आंधी-पानी के कारण राजधानी के कई इलाकों में बिजली आपूर्ति लगभग  तीन घंटे बाधित रही.  बूटी मोड़, विकास, नेवरी, कांटाटोली, बरियातू, डंगराटोली, अशोकनगर, हेहल, बजरा, रातू रोड का इलाका, किशोर गंज, कोकर, सामलोंग, चुटिया, टाटीसिल्वे सहित अन्य इलाकों में बिजली आपूर्ति बाधित रही.

क्या रही पावर उत्‍़पादन की  स्थिति

टीवीएनएल- 366 मेगावाट

सिकिदिरी: 00 मेगावाट

सीपीपी- 9 मेगावाट

Related Posts

नहीं थम रहा #Mob का खूनी खेलः बच्चा चोरी के शक में तोड़ रहे कानून, कहीं महिला-कहीं विक्षिप्त की पिटायी

बच्चा चोरी की बात महज अफवाह, अफवाह से बचें और सावधानी और सतर्कता रखें

इंलैंड- 48 मेगावाट

सेंट्रल सेक्टर-324 मेगावाट

आधुनिक-186 मेगावाट

एसइआर- 38 मेगावाट

आइइएक्स- 110

बिजली की मांग:751 मेगावाट

बिजली सरेंडर: 336 मेगावाट

इसे भी पढ़ेंः झारखंड में दिखने लगा फेनी चक्रवात का असर, बदले मौसम ने गर्मी से दी राहत

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: