न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लातेहारः लोकगीत के माध्यम से महिलाओं ने डीसी को सुनायी गांव की समस्या, देखें वीडियो

विकास की लौ जलाने चंदवा प्रखंड के सुदूरवर्ती क्षेत्र पीपरापानी एवं रखात पहुंचे उपायुक्त राजीव कुमार

2,030
  • पहाड़ से उतरेगा पानी,  तीन पुल एवं सड़क निर्माण को मंजूरी 
  • स्थ्ल के निरीक्षण के लिए बाइक से पहुंचे गांव 

Ltehar: विकास की लौ जलाने की सोच के साथ उपायुक्त राजीव कुमार जंगल एवं पहाड़ों के बीच बसे चंदवा प्रखंड के सुदूरवर्ती क्षेत्र चेटर पंचायत के रखात एवं पीपरापानी गांव पहुंचे. उन्होंने ग्रामीणों से सीधा संवाद स्थापित किया एवं मस्या से रू-ब-रू हुए. इस दौरान ग्रामीणों के द्वारा गांव में बिजली, पानी, सड़क समेत अन्य समस्याओं से उपायुक्त श्री कुमार को अवगत कराया गया. उपायुक्त श्री कुमार ने कहा कि ग्रामीण अगर साथ दें तो गांव का विकास होगा ही होगा. उन्होंने कहा कि सरकार की सोच है कि गांव में मुलभूत सुविधाएं हों लेकिन यह तभी संभव है जब ग्रामीण भी सरकार की योजनाओं को जमीन पर उतारने में अपनी भूमिका निभाएं. उपायुक्त श्री कुमार ने स्पष्ट कहा कि ग्रामीण अपने निजी स्वार्थ से उपर उठकर गांव का विकास के लिए सोचें. कहा कि गांव आपका है तो विकास भी आप ही करें. उपायुक्त श्री कुमार ने गांव में बिचौलियागिरी पूरी तरह से बंद करने की बात कही. ग्रामीणों से गांव में विकास के लिए सहयोग की मांग की. मौके पर डीआरडीए निदेशक संजय भगत, बीडीओ अरविंद कुमार, स्थानीय मुखिया समेत दर्जनों ग्रामीण मौजूद थे.

रखात की महिलाओं ने लोकगीत के माध्यम से बताया अपना दर्द 

चंदवा प्रखंड के चेटर पंचायत में विकास योजनाओं की हकीकत जानने को लेकर रखात गांव पहुंचे उपायुक्त राजीव कुमार को गांव की महिलाओं ने लोकगीत के माध्यम से गांव की समस्या बतायी. इस दौरान ग्रामीणों ने उपायुक्त श्री कुमार से गांव में पुल निर्माण, सड़क निर्माण, पानी की समस्या समेत अन्य समस्याओं से अवगत कराया. जिस पर उपायुक्त श्री कुमार ने तत्काल महिलाओं की समस्या समाधान को लेकर गांव में पुल निर्माण करवाने, सड़क बनाने एवं रोजगार के साधन उपलब्ध करवाने को लेकर डीआरडीए निदेशक संजय भगत एवं बीडीओ को निर्देश दिये.

पहाड़ से उतरेगा पानी 

विकास योजनाओं को अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने की सोच के साथ उपायुक्त राजीव कुमार जब जंगलों एवं पहाड़ों के बीच बसे गांव पिपरापानी पहुंचे तो ग्रामीणों ने उपायुक्त श्री कुमार के समक्ष गांव में पानी की  समस्या से अवगत कराया. साथ ही गांव के पहाड़ पर पानी होने की बात कही एवं पहाड़ से गांव में पानी उतारने की मांग की. जिस पर उपायुक्त श्री कुमार ने निरीक्षण कर पहाड़ से पानी उतारने के लिए तत्काल पाइप बिछाने की स्वीकृति प्रदान कर दी. ग्रामीणों को पाइप के द्वारा गांव में पानी उतारने के लिए अगले दिन से कार्य आरंभ करने को लेकर प्रेरित किया.

स्थल का निरीक्षण करने पैदल एवं बाइक से पहुंचे गांव 

उपायुक्त राजीव कुमार पहाड़ों एवं जंगलों को लांघते हुए पिपरापानी गांव पहुंचे. उपायुक्त श्री कुमार जब गांव जाने के लिए अपने वाहन से जाने लगे तो ग्रामीणों ने गांव में वाहन नहीं जाने की बात बतायी. जिस पर उपायुक्त श्री कुमार बाइक पर बैठ कर गांव के लिए निकल गये. जब उपायुक्त पिपरापानी गांव पहुंचे तो पिपरानाला का निरीक्षण करने के लिए एक किलोमीटर तक पैदल चले एवं उसके बाद स्थल का निरीक्षण किया. इस दौरान उपायुक्त से ग्रामीणों ने पहाड़ी नदी में गार्ड वॉल निर्माण करवाने की मांग की. जिस पर उपायुक्त श्री कुमार ने गार्डवाल निर्माण की स्वीकृति देते हुए ग्रामीणों को ही गार्ड वॉल निर्माण करवाने की बात कही.

तीन पुल, सड़क एवं बिजली पहुंचाने का दिया निर्देश 

उपायुक्त राजीव कुमार चेटर पंचायत में विकास योजनाओं की जमीनी हकीकत को जानने पिपरापानी, रखात एवं डगमरा गांव पहुंचे तो ग्रामीणों ने पुल निर्माण, पानी की समस्या एवं सड़क निर्माण की मांग की. जिस पर उपायुक्त श्री कुमार ने गांव में तीन पुल निर्माण कार्य करवाने की बात कही. गांव में पानी एवं सड़क निर्माण शुरू करवाने का भी निर्देश दिया. चेटर पंचायत में विकास योजनाओं का निरीक्षण करने पहुंचे उपायुक्त राजीव कुमार ने पेड़ के नीचे जमीन पर बैठकर ग्रामीणों की समस्या को सुना.

कंबल का वितरण किया 

चंदवा प्रखंड के चेटर, रखात, डगमरा एवं पिपरापानी गांव में ग्रामीणों के बीच उपायुक्त राजीव कमार ने असहाय एवं वृद्ध ग्रामीणों के बीच कंबल का वितरण किया. उपायुक्त श्री कुमार को रास्ते में जहां भी वृद्ध, असहाय महिला एवं पुरूष मिलते उपायुक्त श्री कुमार अपने वाहन से उतर कर असहायों को कंबल ओढ़ाया.

इसे भी पढ़ेंः सरकार की सहयोगी पार्टी आजसू ने बीजेपी के खिलाफ उगली आग, कहा- हर मोर्चे पर फेल हुई है बीजेपी सरकार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: